पत्रकारिता यूनिवर्सिटी में भूख हड़ताल पर बैठे स्टूडेंट्स:मांगें पूरी नहीं करने पर छात्रसंघ चुनाव का बहिष्कार करने की चेतावनी

जयपुरएक महीने पहले

छात्रसंघ चुनाव को लेकर जारी गाइडलाइन के विरोध में हरिदेव जोशी पत्रकारिता विश्विद्यालय के छात्र दूसरे दिन भी धरने पर बैठे हैं। गाइडलाइन में नियम है जिसके तहत महासचिव और अध्यक्ष के पद के लिए सिर्फ एमए के विद्यार्थी ही चुनाव लड़ सकते हैं। बीए के विद्यार्थी केवल उपाध्यक्ष और संयुक्त सचिव के लिए नामांकन दाखिल कर पाएंगे। विश्वविद्यालय प्रशासन के इस निर्णय के खिलाफ बीजेएमसी और एमजेएमसी के स्टूडेंट्स ने संयुक्त रूप से विरोध प्रदर्शन किया। वहीं उम्र सीमा 25 से बढ़ाकर 27 वर्ष करने की मांग है।

विद्यार्थियों का कहना है कि विश्वविद्यालय का कोई ऑटोनोमस कॉलेज नहीं है अगर होता तो बीए के विद्यार्थी भी हिस्सा ले पाते। ऐसे में यह गाइडलाइंस उनके हितों के खिलाफ है। बीए के विद्यार्थियों की संख्या भी ज्यादा है ऐसे में प्रशासन उनकी हिस्सेदारी में पक्षपात कर रहा है।

पत्रकारिता यूनिवर्सिटी के 6 स्टूडेंट बुधवार से ही भूख हड़ताल पर बैठे हैं।
पत्रकारिता यूनिवर्सिटी के 6 स्टूडेंट बुधवार से ही भूख हड़ताल पर बैठे हैं।

स्टूडेंट्स फ़ॉर डेमोक्रेसी से सोमू आनंद ने कहा कि 'एमए में पढ़ना, नेतृत्व क्षमता का पैमाना नहीं हो सकता। हम यह मानते हैं कि बीए के विद्यार्थी भी एमए के विद्यार्थियों से ज्यादा काबिल हो सकते हैं। इसलिए उन्हें चुनाव लड़ने से रोकना, उनके अधिकारों का हनन है।' वहीं एनएसयूआई से अभिनव यादव ने कहा कि 'उम्र कभी नेतृत्व का पैमाना नहीं हो सकती।'

विद्यार्थियों की मांग है कि अध्यक्ष और महासचिव के पद के लिए न सिर्फ मास्टर्स के विद्यार्थियों बल्कि बीए के विद्यार्थियों को भी लड़ने का मौका दिया जाए। और कोरोना के कारण 2 वर्ष तक छात्र संघ के चुनाव नहीं हुए, इसलिए चुनाव लड़ने के लिए दो साल की उम्र सीमा बढ़ाई जाए। अगर उनकी मांग नहीं मानी गई तो वे चुनाव का बहिष्कार करेंगे। इस प्रदर्शन में यूजी और पीजी दोनों के स्टूडेंट ने भी हिस्सा लिया।

यूनिवर्सिटी प्रशासन का कहना है कि छात्रों की मांगों की उचित मंच पर सुनवाई की जाएगी।
यूनिवर्सिटी प्रशासन का कहना है कि छात्रों की मांगों की उचित मंच पर सुनवाई की जाएगी।

6 विद्यार्थी भूख हड़ताल पर बैठे
अपनी मांगों को लेकर 6 विद्यार्थी भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं। जिनमें यूजी की सारा ईस्माइल, अरुंधति, राहुल मीना, मेराज, शादाब, विहान और पीजी के छात्र सोमू आनंद, अभिनव यादव बुधवार रात से धरने पर हैं।

मांगों पर होगी सुनवाई- प्रशासन
यूनिवर्सिटी में चुनाव अधिकारी रतन सिंह शेखावत ने बताया कि लिंगदोह कमेटी की सिफारिशों के आधार पर ही गाइडलाइन जारी की गई है। उसी के हिसाब से नियम बनाए गए हैं। फिर भी छात्रों की मांग को ध्यान में रखते हुए सुनवाई की जाएगी।

इनपुट : यह खबर दैनिक भास्कर के साथ बतौर इंटर्न जुड़ी खुशी ने की है।