• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Vasundhara Raje Said – Government's Mismanagement Deepens The Power Crisis, Consumers Are Paying More Than Before But Getting Less Electricity

बिजली संकट पर पूर्व CM का हमला:वसुंधरा राजे ने कहा- सरकार के कुप्रबंधन से बिजली संकट गहराया, कंज्यूमर्स पहले से ज्यादा भुगतान कर रहे, लेकिन बिजली कम मिल रही

जयपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वसुंधरा राजे (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
वसुंधरा राजे (फाइल फोटो)

राजस्थान में कोयले की कमी के कारण पैदा हुए बिजली संकट को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री और BJP की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे ने गहलोत सरकार को निशाने पर लिया है। वसुंधरा राजे ने बयान जारी कर कहा- सरकार के कुप्रबंधन के कारण प्रदेश में अघोषित बिजली कटौती है। गांवों में ही नहीं, बिजली कटौती से शहरों में भी लोग परेशान हैं। सबसे बड़ा सूरतगढ़ सुपर थर्मल पावर प्लांट ठप हो गया है। वहां कोल रैक नहीं मिलने के कारण 250-250 मेगावाट की सभी 6 इकाइयां बंद हो गई हैं। इसके अलावा भी कई बिजली घर बंद हैं और कई बंद होने की स्थिति में हैं। प्रदेश में बिजली संकट पैदा हो गया है।

वसुंधरा राजे ने कहा- राज्य सरकार कोयले का भुगतान नहीं कर रही, इसलिए कोयला मिलना बंद हो गया। इससे बिजली उत्पादन ख़ासा प्रभावित हुआ है। हमारे समय में कोयले का समय पर भुगतान होता था। इसलिए कोयले की कमी नहीं रहती थी। बिजली के उत्पादन में भी बाधा नहीं आती थी। आज हालत यह है कि अब न आम उपभोक्ता को पर्याप्त बिजली मिल रही और न ही किसानो और इंडस्ट्री को। राजे ने कहा- बिजली का स्थायी शुल्क और एनर्जी चार्ज बढ़ा कर इस सरकार ने उपभोक्ताओं पर भार डाल दिया। उपभोक्ताओं को वास्तविक रीडिंग की बजाय एवरेज बिल दिए जा रहे हैं। उपभोक्ता पहले से ज़्यादा भुगतान कर रहा है, लेकिन उसे बिजली पहले के मुक़ाबले बहुत कम मिल रही है। हमारे समय में तकनीकी ख़राबी को छोड़ कर शहरों में ही नहीं, गांवों में भी करीब 24 घंटे बिजली मिलती थी। बिजली नागरिकों की मूलभूत सुविधा है। इसलिए पर्याप्त बिजली उपलब्ध कराई जाए।

खबरें और भी हैं...