• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Venugopal Maken's Consultation With Gehlot Late At Night, A Meeting Of MLAs And Party Officials Was Called In PCC At 10.30 Am, Dotasra Clarified On Political Speculation

सत्ता-संगठन में बदलाव का फॉर्मूला तैयार:गहलोत ने हाईकमान पर छोड़ा मंत्रिमंडल फेरबदल-विस्तार का फैसला, देर रात गहलोत के साथ वेणुगोपाल-माकन की मंत्रणा, अब सोनिया गांधी तय करेंगी

जयपुर3 महीने पहले
प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पिछली बार हुई बैठक की फाइल फोटो।

प्रदेश में मंत्रिमंडल विस्तार, राजनीतिक नियुक्तियों और सत्ता संगठन के बदलावों की कवायद तेज हो गई है। अशोक गहलोत और सचिन पायलट की खींचतान मिटाने के लिए कांग्रेस हाईकमान जल्द बड़े फैसले करने की तैयारी में है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंत्रिमंडल विस्तार और फेरबदल का फैसला कांग्रेस हाईकमान पर छोड़ दिया है। कांग्रेस संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल और प्रभारी महासचिव अजय माकन ने शनिवार देर रात CM हाउस में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के साथ लंबी मंत्रणा की। इस मंत्रणा में गहलोत ने मंत्रिमंडल फेरबदल से लेकर पायलट खेमे के विधायकों को मंत्री बनाने तक के सभी फैसले हाईकमान पर छोड़ दिए।

इससे पहले अजय माकन गहलोत के साथ एक बार लंबी चर्चा कर चुके थे, लेकिन उस वक्त गहलोत कुछ मुद‌दों पर सहमत नहीं थे। गहलोत उस वक्त पायलट खेमे के विधायकों को बराबर भागीदारी देने के पक्ष में नहीं थे। पंजाब ऑपरेशन के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के रुख में भी बदलाव के संकेत हैं, यही वजह है कि उन्होंने हाईकमान पर फैसला छोड़ मामले का सम्मानजनक हल निकालने की रणनीति बनाई। अब मंत्रिमंडल विस्तार से लेकर राजनीतिक नियुक्तियों पर जल्द फैसले की संभावना बन गई है। सचिन पायलट खेमे को इसमें पर्याप्त जगह मिलने के आसार हैं।

गहलोत दिल्ली नहीं गए, हाईकमान से जुड़े नेता जयपुर आए
कांग्रेस में पंजाब की तर्ज पर अब राजस्थान में जरूरी बदलाव करने की कवायद चल रही है। कांग्रेस के जानकारों के मुताबिक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत इस बार पायलट खेमे को सत्ता में भागीदारी न देने पर अड़े हुए हैं। बताया जाता है कि कभी सत्ता-संगठन से जुड़ी छोटी-छोटी बातों पर दिल्ली का रुख करने वाले गहलोत ने अब वहां जाने से दूरी बना ली है।

जिस मुद्दे पर हाईकमान नेताओं को दिल्ली तलब करता रहा है, यहां हाईकमान से जुड़े नेता चलकर मुख्यमंत्री गहलोत के पास आए हैं। राजनीतिक जानकार इसके पीछे भी गहलोत की मैसेज की राजनीति बता रहे हैं। हालांकि, गहलोत के दिल्ली नहीं जाने से हाईकमान की मजबूती वाला मैसेज राजस्थान में नहीं गया है जाे पंजाब के मामले में गया था, लेकिन दोनों राज्यों के हालात में अंतर है।

विधायकों- पदाधिकारियों की साझा बैठक

संगठन महासचिव केसी वेणुगाेपाल और प्रभारी अजय माकन ने पीसीसी में कांग्रेस विधायकों और पदाधिकारियों के साथ साझा बैठक बैठक की। विधायकों- पदाधिकारियों की साझा बैठक में भी मंत्रिमंडल विस्तार, राजनीतिक और संगठनात्मक नियुक्तियों पर फैसला हाईकमान पर छोड़ने की बात दोहराई गई।

डोटासरा ने रात को ट्वीट कर सफाई दी थी
अचानक PCC में विधायकों और पदाधिकारियों की बैठक बुलाने पर लगातार सियासी चर्चाएं शुरू हो गईं तो कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने PCC में बुलाई गई बैठक को लेकर लगाई जा रही अटकलों पर देर रात ट्वीट कर सफाई दी । डोटासरा ने विधायक दल की बैठक से इनकार करते हुए वेणुगोपाल और अजय माकन के स्वागत की बात कहकर अटकलों पर विराम लगाने का प्रयास किया।

खबरें और भी हैं...