पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Was Asking For Money By Blackmailing Friends, Put It In The Trunk Of The Car And Took It To Agra, Shot 5 And Threw The Body In The Canal.

कुशलपाल उर्फ टीटू हत्याकांड के तीन आरोपी किए गिरफ्तार:दोस्तों से ही ब्लेकमेल कर रुपए मांग रहा था, कार की डिग्गी में डालकर आगरा ले गए, 5 गोली मार कर शव को नहर में फेंका

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हत्या के आरोपी सुशांत, रुपेश व अजय को गिरफ्तार किया - Dainik Bhaskar
हत्या के आरोपी सुशांत, रुपेश व अजय को गिरफ्तार किया

उत्तरप्रदेश में गाड़ी की डिग्गी में ले जाकर कुशलपाल उर्फ टीटू हत्याकांड के तीन आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। मृतक कुशलपाल और सुशांत दोस्त थे। कुशलपाल ने सुशांत को भरतपुर में बंधक बनाकर वीडियो बनाया और वायरल कर दिया था। कुशलपाल अपने दोस्त से रुपए मांगने लग गया था। परेशान होकर सुशांत ने रुपेश व अजय के साथ मिलकर हत्या कर दी। तीनों से पूछताछ में कई चौंकाने वाले खुलासे हुए है।

डीसीपी पूर्व अभिजीत सिंह ने बताया कि पुलिस ने सुशांत कुमार दत्तात्रेय उर्फ सतीश पुत्र राजेंद्र प्रसाद शर्मा निवासी सेवर भरतपुर, रुपेश भारद्वाज पुत्र हरिश चन्द्र निवासी मथुरा गेट, भरतपुर व अजय उर्फ बंटी निवासी कुम्हेर भरतपुर को गिरफ्तार किया है। सुशांत व रुपेश जयपुर में रामनगरिया थाना इलाके में श्रीकृष्णा एंक्लेव अपार्टमेंट में रहते थे।

चाचा ने कराया था हत्या का मुकदमा दर्ज

मृतक कुशलपाल के चाचा विपेन्द्र सिंह ने हत्या की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उसने रिपोर्ट में बताया कि भतीजा कुशलपाल उर्फ टीटू अपने दोस्त सुशान्त के पास आता जाता रहता था। एक अप्रैल को कुशल को राजस्थान युनिवसिर्टी के बाहर से सुशान्त अपनी गाड़ी में बिठा कर ले गया। कुशल दुकान खोलने के लिए घर से 6-7 लाख रुपए, जरुरी सामान एप्पल का मोबाइल लेकर सुशान्त के पास जयपुर आया था। 7 अप्रैल को सुशान्त के फ्लेट पर होने की बात कहीं थी। 13 अप्रैल को हत्या किए जानने की सूचना मिली थी।

दोनों कॉलेज के समय से ही दोस्त थे

गिरफ्तार आरोपी सुशान्त व मृतक कुशल एक दूसरे के कॉलेज टाइम से ही दोस्त थे। मृतक कुशलपाल उर्फ टीटू बदमाश किस्म का व्यक्ति था। सुशान्त ने कॉलेज टाइम में अपने सीनियर लड़कों से बचने के लिए सहारा लिया। कॉलेज से निकलने के बाद सुशान्त प्राईवेट कम्पनियों में अच्छी नौकरी करने लग गया। मृतक कुशलपाल उर्फ टीटू मुल्जिम सुशान्त से आए दिन रुपए लेता था तथा कभी वापिस नहीं करता था। सुशांत ने उसे रुपए देने बंद कर दिए।

सुशांत को कुशलपाल ने खेतों में बंधक बनाया
रुपए देने से बंद करने पर मृतक कुशलपाल ने अपने साथियों के साथ 4-5 माह पहले सुशांत का अपहरण कर लिया। उसे भरतपुर में खेतों में ले गया तथा बंधक बनाकर मारपीट की। भरतपुर के कुछ बदमाशों के लिए उल्टा सीधा बुलवा वीडियो बना लिया। कुशलपाल ने उक्त वीडियो भरतपुर के बदमाशों की गैंग तक पहुंचा दिया तब से सुशांत को फोन पर धमकी मिलनी लग गई।
जॉब छोड़कर सुशांत जयपुर आ गया

सुशान्त काफी परेशान हो गया था। उसे रोजाना धमकी मिल रही थी। तब वह जॉब छोड़कर जयपुर आकर जॉब करने लग गया। कुशलपाल उसका पीछा करता हुआ वापिस जयपुर आ गया। सुशान्त ने उसे अपने साथियों के फ्लेट पर रुकवा दिया। कुशलपाल एक सटोरियों को उठाकर उसके फ्लेट पर लाकर उससे रकम वसूलना चाहता था। उसने पूरी योजना बना ली। वह दो देशी कट्टे, एक देशी पिस्टल और भारी मात्रा में कारतूस लेकर आया था। सुशांत ने कुशलपाल का योजना में साथ देने से मना कर दिया था। सुशांत को ब्लेकमेल करने लग गया।उसके दोस्तों का अपहरण करने की धमकी देने लगा। तब उसने रूपेश के साथ मिलकर हत्या कर दी।

डिग्गी में डालकर उत्तरप्रदेश में ले गए

सुशान्त उसे रुपेश भारद्वाज व अजय उर्फ बन्टी के साथ अपनी गाड़ी की डिग्गी में डाल दिया। इसके बाद उसे उत्तरप्रदेश में ले गए। वहां पर अचनेरा में 5 गोलियां मारकर शव को नहर में फेंक दिया। बाद में अचनेरा उत्तरप्रदेश पुलिस ने शव को बरामद किया। जयपुर आने के बाद मुल्जिम सुशान्त, रुपेश भारद्वाज, अजय उर्फ बन्टी ने चन्द्र गेस्ट हाउस के पास वसूली के लिए फायर कर दिया। तब पुलिस ने उन्हें गिरफ‌तार कर लिया था।

खबरें और भी हैं...