जयपुर में महिलाओं ने खेला सिंदूर:लाल और सफेद रंग की साड़ी पहन अखंड सुहाग के लिए की मां दुर्गा की आराधना, एक-दूसरे को लगाया सिंदूर

जयपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिंदूर अर्पित कर देश में अमन और चैन की कामना की। - Dainik Bhaskar
सिंदूर अर्पित कर देश में अमन और चैन की कामना की।

राजधानी जयपुर के त्रिमूर्ति सर्किल स्थित एक होटल में शक्ति वुमन ऑर्गेनाइजेशन ग्रुप की ओर से सिंदूर खेला उत्सव का आयोजन किया गया । इस दौरान महिलाओं ने मां दुर्गा की पूजा अर्चना की और मां दुर्गा को सिंदूर अर्पित कर देश में अमन और चैन की कामना की।

अखंड सुहाग का प्रतीक है सिंदूर खेला
ग्रुप की फाउंडर सोनाक्षी वशिष्ट ने बताया कि नवरात्रि में बंगाली समाज में में सिंदूर महोत्सव अखंड सुहाग और महिलाओं के आपसी प्यार और सौहार्द का प्रतीक माना जाता है ये उत्सव माँ दुर्गा की पूजा अर्चना के लिए मनाया जाता है,और महिलाएं एक दूसरे को सिंदूर लगा कर अखंड सुहाग की कामना करती है।

सिंदूर लगा कर अखंड सुहाग की कामना की।
सिंदूर लगा कर अखंड सुहाग की कामना की।

इस अवसर पर ग्रुप मेंबर्स की महिलाओं ने लाल और सफ़ेद रंग की साड़ी में बंगाली संस्कृति के अनुसार पूरे विधि विधान से मां दुर्गा की पूजा अर्चना कर सिंदूर अर्पित किया और एक दूसरे को सिंदूर लगा सिंदूर खेला उत्सव मनाया, इस मौके पर शक्ति वुमन ऑर्गेनाइजेशन फाउंडर सोनाक्षी वशिष्ठ, दीपा रामचंदानी, अनुपमा अग्रवाल , चैताली सेनगुप्ता , श्रुति लूथरा व करीब महिलाएं मौजूद रही।

एक दूसरे को लगाय सिंदूर।
एक दूसरे को लगाय सिंदूर।
सौहार्द का प्रतीक माना जाता है।
सौहार्द का प्रतीक माना जाता है।
शक्ति वुमन ऑर्गेनाइजेशन ग्रुप की ओर से कार्यक्रम रखा गया।
शक्ति वुमन ऑर्गेनाइजेशन ग्रुप की ओर से कार्यक्रम रखा गया।
खबरें और भी हैं...