• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • When The Crowd Gathered, Gehlot Said How Should You Be SP? People Gathered, Did Not Know? On The Same Day, Thousands Of People Gathered In The Last Visit Of Minister Saleh's Father, But No Action.

ये भी गलत, वो भी गलत:भीड़ जुटी तो गहलोत ने कहा- कैसे एसपी हो? लाेग जुटे, पता नहीं लगा?, उसी दिन मंत्री सालेह के पिता की अंतिम यात्रा में हजारों लोग जुटे, पर एक्शन नहीं

धौलपुर/जयपुर/जैसलमेर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

धौलपुर/जयपुर, कोरोनाकाल में धार्मिक-सामाजिक आयोजनों पर रोक के बावजूद बसेड़ी के पूर्व भाजपा विधायक सुखराम कोली ने हनुमान जी की प्राण-प्रतिष्ठा कराने के बाद रामायण के अखंड पाठ में 500-700 लोगों की भीड़ जुटा ली और कलेक्टर-एसपी को भनक तक नहीं लगी।

इस बात को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत इतने नाराज हुए कि मंगलवार को हुई वीडियो कांन्फ्रेंसिंग में ही सबके सामने दोनों अधिकारियों को जमकर लताड़ लगाई। इतना ही उन्होंने मुख्य सचिव निरंजन आर्य को जिला कलेक्टर राकेश कुमार जायसवाल और डीजीपी को एसपी केसर सिंह शेखावत को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण लेने के निर्देश दिए।

जयपुर/जैसलमेर, कैबिनेट मंत्री सालेह मोहम्मद के पिता मुस्लिम धर्मगुरु गाजी फकीर का सोमवार रात निधन हो गया। मंगलवार को उनके अंतिम दर्शनों के लिए उनके पैतृक गांव पर हजारों लोगों की भीड़ जमा हो गई। सालेह मोहम्मद खुद 23 अप्रैल को कोरोना पाॅजिटिव पाए गए थे, लेकिन हजाराें की भीड़ में वे भी शामिल हुए।

हालांकि, सूत्रों की मानें तो हाल ही में उनकी रिपोर्ट निगेटिव आ गई थी। मगर इसके बावजूद काेराेना के दौर में अंतिम संस्कार में इतनी भीड़ जुटना न सिर्फ प्रोटोकॉल का खुला उल्लंघन है, बल्कि लोगों के लिए जानलेवा भी है। निर्देशों के मुताबिक अंतिम यात्रा में 20 से ज्यादा लोग शामिल नहीं हाे सकते हैं।

खबरें और भी हैं...