• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Will Hold Public Meetings In Support Of Congress Candidates In Vallabhnagar And Dhariyavad, In BJP Also The Names Of Candidates Are Final But Wait And Watch

कांग्रेस-बीजेपी आज-कल में घोषित कर सकती हैं प्रत्याशी:वल्लभनगर और धरियावद में प्रत्याशियों के नाम तय; मुख्यमंत्री 8 अक्टूबर को करेंगे उपचुनाव क्षेत्रों में जनसभाएं

जयपुर8 महीने पहले
कांग्रेस-बीजेपी आज-कल में घोषित करेगी प्रत्याशियों के नाम।

राजस्थान में दो सीटों पर होने जा रहे विधानसभा उपचुनाव के लिए कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही पार्टियां आज-कल में अपने प्रत्याशियों के नाम घोषित कर सकती हैं। 8 अक्टूबर को नामांकन की अंतिम तारीख है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत 8 अक्टूबर को कांग्रेस प्रत्याशियों को नामांकन दाखिल करवाने उदयपुर के वल्लभनगर और प्रतापगढ़ के धरियावद जाएंगे।

हालांकि अब तक प्रत्याशियों के नाम पार्टी ने घोषित नहीं किए हैं, लेकिन प्रत्याशी फाइनल हो चुके हैं। अंतिम समय तक सस्पेंस बनाया जा रहा है, ताकि नाम घोषित करते ही होने वाले डैमेज से पार्टी को बचाया जा सके। पार्टी के टिकट दावेदार भी कन्फ्यूजन में रहें। यही रणनीति कांग्रेस ही नहीं बीजेपी भी लेकर चल रही है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का उपचुनाव क्षेत्रों में दौरा तय
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत 8 अक्टूबर को नामांकन के आखिरी दिन जयपुर से सुबह 9.15 बजे हेलिकॉप्टर से रवाना होंगे। सुबह 11 बजे गहलोत उदयपुर के वल्लभनगर पहुंचकर कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में जनसभा को संबोधित करेंगे। इसके बाद दोपहर 12.30 बजे वल्लभनगर से रवाना होकर दोपहर 1 बजे प्रतापगढ़ के धरियावद पहुंचेंगे। यहां भी गहलोत कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में जनसभा को संबोधित करेंगे। दोपहर 2.30 बजे धरियावद से मुख्यमंत्री जयपुर के लिए वापसी की उड़ान भरेंगे और तय कार्यक्रम के मुताबिक शाम 4.15 बजे जयपुर आ जाएंगे।

कांग्रेस में वल्लभनगर में प्रीति शक्तावत का नाम लगभग तय
उदयपुर की वल्लभनगर सीट से कांग्रेस के दिवंगत विधायक गजेन्द्र सिंह शक्तावत की पत्नी प्रीति शक्तावत का टिकट तय माना जा रहा है। सिम्पैथी के वोट हासिल करने के लिए दिवंगत विधायक की पत्नी ही पार्टी को सबसे मजबूत दावेदार नजर आ रही हैं। जबकि प्रीति के खिलाफ गजेन्द्र सिंह शक्तावत के बड़े भाई देवेन्द्र सिंह शक्तावत और की भी दावेदारी है, लेकिन पार्टी सूत्रों के मुताबिक प्रीति का नाम लगभग फाइनल हो चुका है।

कांग्रेस में धरियावद में नगराज मीणा का नाम लगभग तय, लेकिन इंदिरा मीणा का पेंच
प्रतापगढ़ के धरियावद में कांग्रेस से पूर्व विधायक नगराज मीणा का टिकट लगभग तय बताया जा रहा है। नगराज को 1998 से लेकर अब तक सभी विधानसभा चुनाव में टिकट मिलता आ रहा है, लेकिन नगराज 1998 और 2008 में ही चुनाव जीतकर विधायकी कर पाए हैं। जबकि 2003, 2013 और 2018 के चुनाव में उन्हें हार का सामना करना पड़ा है। पिछले दो विधानसभा चुनाव वो लगातार हारे हैं। ऐसे में यहां प्रतापगढ़ विधायक रामलाल मीणा अपनी पत्नी इंदिरा मीणा को टिकट दिलाने के लिए पूरा जोर लगा रहे हैं, लेकिन रामलाल मीणा की प्रभारी मंत्री अर्जुन बामणिया से नहीं बन रही है। दूसरा उनकी पत्नी इंदिरा मीणा जिला प्रमुख हैं। ऐसे में पार्टी नहीं चाहेगी कि यह सीट गंवाई जाए।

बीजेपी में वल्लभनगर से उदय लाल डांगी लगभग तय
बीजेपी में वल्लभनगर से उदय लाल डांगी का टिकट लगभग फाइनल बताया जा रहा है, लेकिन जनता सेना के संयोजक रणधीर सिंह भींडर लगातार यह मांग उठा रहे हैं कि उन्हें नहीं तो उनकी पत्नी दीपेन्द्र कंवर को यहां से टिकट दिया जाए। यदि बीजेपी ऐसा करती है, तो वे जनता सेना से बीजेपी प्रत्याशी को समर्थन दे देंगे। वरना भींडर खुद यहां से जनता सेना से चुनाव में ताल ठोकने की पूरी तैयारी में हैं। भींडर से नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया के समीकरण नहीं बनते हैं। दोनों में जुबानी जंग चलती आई है। पार्टी अगर गुलाबचंद कटारिया को नाराज करती है, तो दीपेन्द्र कंवर को भी चुनाव लड़ाने की एक संभावना बन सकती है।

धरियावद में कन्हैयालाल मीणा का टिकट लगभग फाइनल
बीजेपी ने धरियावद से अपने दिवंगत विधायक गौतमलाल मीणा के जाने से खाली हुई सीट पर उनके पुत्र कन्हैयालाल मीणा को टिकट देने का मन बना लिया है। कन्हैयालाल मीणा को वसुंधरा राजे का भी आशीर्वाद माना जाता है। हालांकि नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया की पसंद दूसरे दावेदार खेत सिंह मीणा बताए जाते हैं, लेकिन कन्हैयालाल मीणा को चुनाव में उतराने से बीजेपी को सहानुभूति वोट बैंक का फायदा मिलेगा, ऐसी उम्मीद है। कन्हैयालाल मीणा की पत्नी खुद प्रधान हैं। वे अभी विधायकी का चुनाव नहीं लड़ेंगी। ऐसा सियासी जानकार बताते हैं।

खबरें और भी हैं...