हवाई यात्रा पर कोरोना का ग्रहण:नए साल के साथ 30% तक घटी हवाई यात्रियों की संख्या, हर दिन कैंसिल हो रही पांच फ्लाइट

जयपुर4 महीने पहले
फाइल फोटो।

राजस्थान समेत देशभर में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर दस्तक दे चुकी है। प्रदेश में हर दिन संक्रमित मरीजों की संख्या में हो रहे इजाफे के बाद जहां सरकार ने सख्ती बढ़ा दी है। बावजूद इसके संक्रमण की रफ्तार बदस्तूर बढ़ती जा रही है। इसका सीधा असर अब हवाई यात्रा पर पड़ने लगा है। जिसकी वजह से जयपुर में पिछले 1 सप्ताह में 30% हवाई यात्रियों की संख्या में कमी आई है। वहीं यात्रियों की संख्या में आ रही कमी के बाद फ्लाइट्स भी कैंसिल की जा रही है।

जयपुर एयरपोर्ट अथॉरिटी के मुताबिक पिछले साल दिसंबर में हर दिन औसत 55 से 58 फ्लाइट का संचालन किया जा रहा था। जिनमें 14 हजार से 15 हजार यात्री सफर कर रहे थे। लेकिन नए साल की शुरुआत के साथ यह आंकड़ा 50 से 52 फ्लाइट पर ही सिमट गया है। जिनमें अब सिर्फ 9 हजार से 10 हजार यात्री सफर कर रहे हैं। वहीं लगातार घटते यात्री भार के बाद अब फ्लाइट को रद्द भी किया जा रहा है। जिनमें हैदराबाद, कोलकाता, मुंबई, देहरादून जैसे प्रमुख शहरों की फ्लाइट्स भी शामिल हैं। राजस्थान में लगातार बढ़ते कोरोना संक्रमण का असर सिर्फ जयपुर ही नहीं बल्कि प्रदेश के दूसरे एयरपोर्ट पर भी नजर आ रहा है। ऐसे में नए साल के बाद जोधपुर, उदयपुर, जैसलमेर और किशनगढ़ एयरपोर्ट पर भी यात्री भार कम होने के साथ फ्लाइट्स कैंसिल होने का सिलसिला शुरू हो गया है। जिसकी वजह से यात्रियों को परेशान होना पड़ रहा है।

वहीं लगातार घटते फ्लाइट के संचालन का सीधा असर राजस्थान की टूरिज्म इंडस्ट्री पर भी नजर आ रहा है। टूरिस्ट एसोसिएशन के पदाधिकारियों के अनुसार फिर से कोरोना बढ़ने के बाद अब पर्यटकों की आवाजाही कम होने लगी है। दिसंबर में जहां प्रदेश के होटल और रिसॉर्ट्स में कमरे नहीं मिल रहे थे। वहीं अब 50% कमरे भी बमुश्किल बुक हो रहे हैं। ऐसे में अगर फ्लाइट के संचालन में कमी आएगी। तो इसका सबसे ज्यादा नुकसान राजस्थान की टूरिज्म इंडस्ट्री को उठाना पड़ेगा।