पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

पर्व पर कोरोना का असर:भक्तों के बिना गोविंद की नगरी में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव की रौनक फीकी

जयपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भले ही पूरे देश में मंदिर अनलॉक हो गए हो लेकिन गोविंद की नगरी में 31 अगस्त तक लॉकडाउन के चलते इस साल श्री कृष्ण जन्मोत्सव के उत्साह की रौनक फीकी है। बिना भक्तों के गोविंद के दरबार में जन्मोत्सव की कोई खास तैयारी नजर नहीं आ रही। हालांकि, मंदिर महंत परिवार और कर्मचारी ही कृष्ण जन्मोत्सव मनाने की तैयारियों में जुटे हुए हैं। राधा रानी और गोविंद देव जी का जन्म अभिषेक भी होगा और आरती भी होगी। मंदिर प्रबंधक मानस गोस्वामी ने बताया कि जन्माष्टमी ने दिन सभी नित्य सेवाक्रम यथावत होंगे| भक्तों को इन सभी कार्यक्रम को देखने का मौका सिर्फ ऑनलाइन मिल सकेगा।

देवस्थान के मंदिरों में कृष्ण जन्माष्टमी, नंदोत्सव, राधा अष्टमी और गणेश चतुर्थी के आयोजन नहीं होंगे

देवस्थान विभाग के 30 मंदिरों सहित विभाग के अधीन विभिन्न ट्रस्ट और बोर्ड के मंदिरों में भी कृष्ण जन्माष्टमी, नंदोत्सव, राधा अष्टमी और गणेश चतुर्थी के आयोजन नहीं होंगे। इन आयोजनों के लिए कोई बजट और भोग सामग्री भी नहीं जाएगी। न तो मंदिरों में कोई तैयारी की जाएगी और ना ही ठाकुर जी का जन्म पंचामृत अभिषेक किया जा सकेगा। ना ही देवस्थान के मंदिरों पर जन्माष्टमी के उपलक्ष में सजावट ही की जाएगी।

नहीं भरेगा मोती डूंगरी गणेश जी का लक्खी मेला
प्रथम पूज्य गणेशजी के जन्मोत्सव गणेश चतुर्थी 22 अगस्त को इस बार मोती डूंगरी गणेशजी महाराज का लक्खी मेला नहीं भरेगा और न ही दूसरे दिन शोभायात्रा निकाली जाएगी। कोविड-19 के कारण राज्य सरकार के निर्देशानुसार मोती डूंगरी मंदिर प्रबंधन की ओर से यह निर्णय लिया गया है। महंत कैलाश शर्मा ने बताया कि जन्मोत्सव के दौरान होने वाले कार्यक्रम सिंजारा, मोदक झांकी, पंचामृत अभिषेक आदि यथावत रहेंगे। भक्तजनों का प्रवेश मंदिर में नहीं हो सकेगा।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें