पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गोवंश की जान को खतरा:खेतों के साथ 70 फीसदी चरागाहों में बोआई होने से गोवंश सड़कों पर आने को मजबूर, जान को खतरा

पापड़दा10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

चरागाहों पर हो रहे अतिक्रमणों के चलते अब गायें व सांड सड़कों पर घूम रहे है। लेकिन प्रशासन द्वारा कार्यवाही नहीं होने से जहां अतिक्रमियों के हौसले बुलंद है। वहीं चरागाहों की हकदार गाय को अब सडक पर रहना पड़ रहा है। ये हालात हर जगह ही हो रहे हैं। जानकारी के अनुसार चरागाहों की 50 से 70 फीसदी जमीनों पर लोगों ने अतिक्रमण करके उनमें खेती तो कर ही रखी है। इसके अलावा चरागाहों में मकान बना रखें है। तो कहीं बोरवैल भी खोद रखे हैं। और अतिक्रमणकारियों का आए दिन चरागाहों में पैर पसारने का कार्य कहीं जेसीबी मशीनों से तो कहीं ट्रेक्टरों से इसके अलावा गत दो तीन वर्षों से गर्मियों में नया तरीका इजाद करते हुए जौंण की चरागाह भूमि में कई अतिक्रमणकारियों ने खेतों पर बोरवैल के पानी को चरागाहों की टीले वाली जमीन जो उनके खेतों से सटकर है। उन्होंने पानी का प्रेशर देकर दो माह में लाखों लीटर पानी बर्बाद करते हुए जमीन में पानी का कटाव लगाकर चीन की नीति से चरागाह की जमींन हथियाने का काम कर रहे हैं। जिससे न तो किसी वाहन बुलडोजर की जरूरत पड़ती है। न ही किसी को पता लगता है। ऐसे में स्थानीय स्तर पर ग्रामीण कई बार शिकायत भी करते हैं। लेकिन प्रशासन के पटवारी स्तर पर होने वाली सांठ गांठ से प्रशासन को पुख्ता जानकारी नहीं मिलने से उच्चस्तरीय अधिकारी गुमराह होने से चारागाह के अतिक्रमण खाली नहीं हो पाते हैं। उपखंड क्षेत्र की अधिकांश ग्राम पंचायतों के हालात यहीं है।उपखंड क्षेत्र नांगलराजावतान के छारेडा, आलूदा, पापडदा, खवारावजी, सहित दर्जनों कस्बों गांवों में हजारों बीघा चरागाहों पर लोगों ने अतिक्रमण कर रखा है। और इन कस्बों की गलियों में गाय और सांड जो चरने की जगह चरागाह तो क्या उन्हें श्मशानघाट में भी इसलिए जगह नहीं मिलती की अधिकांश श्मशानघाटों के भी चार दीवारी लगने से गेटों के ताले लग गए। गत शनिवार को हापावास चौराहे पर, सोमवार को श्यालावास गांव में, मंगलवार को छारेड़ा के समीप सांडों की लड़ाई में लोग बाल बाल बचे।शनिवार को हापावास चौराहे पर तो सांडों की आधे घंटे की लड़ाई में तीन लोग खड़ी पिक अप से पैदल भागते हुए टकराए। तो एक दर्जन मोटर साइकिलें उनकी लडाई की चपेट में आने से गिरने से कई पार्ट्स टूट गए। यूं होगा सुधार, फसलों को नहीं खा पाएंगी गाय हर ग्राम पंचायत में यदि चरागाहों से अतिक्रमण हटाकर यदि उसके चारों तरफ खाईं खुदवाकर उसमें उस ग्राम पंचायत की सभी गायों को छोड़ दिया जाए तो वे भर पेट चारागाह के जंगली चारे से 12 माह पेट इसलिए भर सकती है। कि एक ग्राम पंचायत में सौ से डेढ़ सौ गायों से अधिक नहीं होती है। और एक ग्राम पंचायत में कम से कम 200 बीघा चारागाह भूमि है। जौंण की चरागाह भूमि में 351 बीघा चारागाह भूमि में पक्के निर्माण बोरवैल बड़े बड़े खेत जिनमें हजारों मण बाजरा, मूंगफली व जमीन को 20 हजार रुपए प्रति बीघा में यू पी के बाडी करने वालों को किराये पर भी देते हैं। गौरतलब है कि खवारावजी में गणेश मंदिर के समीप चरागाह भूमि में ग्राम पंचायत ने खाईं खुदवाकर अतिक्रमण हटाया था। लेकिन वो राजस्व विभाग की उदासीनता से पूरी तरह नहीं हट पाया। गौरतलब है कि अतिक्रमण करने वाले एक गांव में 5लोग है। और उसे हटाने के लिए 95 लोग रहते हैं। लेकिन लोग शिकायत इसलिए नहीं करते कि उन्हें प्रशासन पर अतिक्रमण हटाने का विश्वास नहीं रहता है। और शिकायत से बुरे भी बन जाए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत होगा। जिससे आपकी विचार शैली में नयापन आएगा। दूसरों की मदद करने से आत्मिक खुशी महसूस होगी। तथा व्यक्तिगत कार्य भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझते जाएंगे। नेगेट...

    और पढ़ें