पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एसपी ने माना पुलिस कस्टडी में हुई मौत:30 पुलिसकर्मी लाइन हाजिर, मृतक के परिजनों को 5 लाख की मदद पर सहमति

चौथ का बरवाड़ा22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
नाराजगी जताते विधायक बैरवा व ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
नाराजगी जताते विधायक बैरवा व ग्रामीण।
  • चौथ का बरवाड़ा थाने का पूरा स्टाफ हटाया

तहसील क्षेत्र के एकड़ा गांव के भजन लाल लाल मीणा की पुलिस कस्टडी में हुई मौत के बाद रविवार काे एसपी ने बरवाड़ा थाने के 30 जवानों को लाइन हाजिर कर दिया। पुलिस कस्टडी में हुई मौत से नाराज ग्रामीणों ने बार-बार चौथ का बरवाड़ा सवाई माधोपुर मार्ग पर जाम लगा दिया। वहीं पुलिस व प्रशासन के समझाने के बाद देर शाम को पुलिस की मौजूदगी में शव का अंतिम संस्कार होने के बाद प्रशासन ने राहत की सांस ली।

वहीं इस मामले को लेकर पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने के लिए क्षेत्रीय विधायक दिनभर चौथ का बरवाड़ा में रहे शाम को कलेक्टर की मौजुदगी में हुई बैठक में पीड़ित परिवार को मुख्यमंत्री सहायता कोष से पांच लाख की आर्थिक सहायता देने की सहमति पर मामला शांत हुआ। वहीं इस मामले में न्यायिक मजिस्ट्रेट द्वारा जांच शुरू कर दी है।

रविवार को दिन भर क्षेत्र में तनाव का माहौल देखने को मिला। इस दौरान दोपहर 12:30 बजे विधायक अशोक बैरवा ग्राम पंचायत कार्यालय पहुंचे। पूरी घटना के लिए पुलिस प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया। जिसमें मृतक परिवार को 25 लाख का मुआवजा दिलाने, योग्यता के अनुसार पुत्र को सरकारी नौकरी देने, दोषी पुलिस वालों वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने, उच्चाधिकारियों से पूरे मामले की जांच करवाने, पेंशन तथा पालनहार आदि को लेकर ज्ञापन तैयार किया।

शाम 7:00 बजे तक सहमति नहीं बन पाई। कलेक्टर ने मुख्यमंत्री राहत कोष से 5 लाख दिलवाने, पालनहार तथा पेंशन स्वीकृत करवाने तथा पीड़ित को हर संभव मदद दिलाने की बात कही। जिसके बाद विधायक के समझाने पर ग्रामीणों ने जाम हटाया और 8 बजे शव का अंतिम संस्कार संस्कार किया।

दोषियों पर कार्रवाई... पुलिस के खिलाफ जांच मजिस्ट्रेट करेंगे

पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार चौधरी ने देर रात चौथ का बरवाड़ा थाना पहुंचकर यह माना था कि अधेड़ की मौत पुलिस कस्टडी में हुई है तथा दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद रात्रि 11:00 बजे थाना प्रभारी सहित तीन को सस्पेंड कर दिया था तथा रविवार सुबह थाना के सभी 30 अधिकारियों तथा जवानों को लाइन हाजिर कर दिया गया है।

3 सस्पेंड 30 को किया लाइन हाजिर

पुलिस कस्टडी में कथित तौर पर अधेड़ की मौत के मामले में पुलिस अधीक्षक सुधीर चौधरी द्वारा चौथ का बरवाड़ा थाना प्रभारी मुकेश जैमन, हेड कांस्टेबल सलीमुद्दीन खान तथा सीताराम को सस्पेंड किया गया है। इसी के साथ एएसआई जगदीश प्रसाद रेगर, कमलेश कुमार, हेड कांस्टेबल घनश्याम, सोसाईलाल, संदीप, माधो सिंह, कांस्टेबल शत्रुहन कुशवाहा, अशोक, बत्तीलाल, सुरेंद्र सिंह, गुलशेर खान, सुरेंद्रपाल, जितेंद्र कुमार, भरत लाल मीणा, महावीर, सोहनी बेनीवाल, देशराज, सुमन, कृष्णमुरारी, रमन सिंह,कैलाश चंद, ओमप्रकाश चौधरी, चेतराम,दिनेश कुमार सैनी,चंद्रभान सिंह, जगदीश, संदीप कुमार, देउराम, पुरखाराम, कुंजीलाल को लाइन हाजिर किया गया है।

इस मामले को लेकर पीड़ित परिवार के सदस्य दिनेश मीणा की रिपोर्ट पर पुलिस ने मृतक के भाई तथा अन्य लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया है। जिन लोगों के नाम दर्ज करवाए हैं। उनके खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया गया है। इस पूरे मामले की जांच सीआईडी सीबी करेगी। साथ ही पुलिसकर्मियों के खिलाफ जांच के लिए बामनवास न्यायिक मजिस्ट्रेट मनमोहन चंदेल की जा रही है।
हत्या का केस दर्ज, मामले की जांच अब सीआईडी सीबी करेगी

पीड़ित परिवार के साथ जो कुछ हुआ उसका प्रशासन को दुख है। प्रशासन द्वारा मुख्यमंत्री राहत कोष के तहत पांच लाख का चेक दिया गया है। इसके साथ ही पेंशन तथा पालनहार को भी स्वीकृति दी है। प्रशासन का प्रयास पीड़ित परिवार को अधिक से अधिक मुआवजा तथा न्याय दिलाने का है।

-राजेंद्र किशन, कलेक्टर

विधायक सरकार रहते हुए भी पीड़ित परिवार को न्याय नहीं दिलवा पाया है। उनके द्वारा रखी गई 25 लाख मुआवजा की मांग तथा दोषियों पर मुकदमा दर्ज होने की बात नहीं मानी गई है। पूरे दिन थाने में रहने के बावजूद भी विधायक मुख्यमंत्री से बात कर उचित मुआवजा पीड़ित परिवार को नहीं दिलवा पाए।
-जितेंद्र गोठवाल, पूर्व विधायक

मुख्यमंत्री तक पीड़ित परिवार की हर संभव मदद का संदेश पहुंचाया गया है। 5 लाख की सहायता राशि तथा अन्य सहायता राशि तुरंत दिलवा दी गई है। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए प्रशासन को अवगत कराया गया है। सरकार की मंशा पीड़ित परिवार को हर संभव मदद देना है।
-अशोक बैरवा, क्षेत्रीय विधायक

खबरें और भी हैं...