कोरोना बढ़ रहा है, अब सतर्कता जरूरी:31 पॉजिटिव, परिषद और पालिका क्षेत्र में आठवीं तक के स्कूल 16 तक बंद, चौथमाता का मेला निरस्त

सवाई माधोपुर21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में दो दिन में कोरोना पॉजिटिव की संख्या बढ़कर 43 हो गई

जिले में कोरोना की तीसरी लहर ने दस्तक दे दी है। लगातार दूसरे दिन गुरुवार को जिले में 31 पॉजिटिव केस सामने आए हैं। इससे पहले बुधवार को 10 पॉजिटिव और सोमवार को 2 पॉजिटिव आए थे। ऐसे में अब जिले में कोरोना पॉजिटिव केस की संख्या बढ़कर 43 हो गई है। इसे देखते हुंए 7 जनवरी से कक्षा एक से आठवीं तक के स्कूलों में ऑफलाइन शिक्षण गतिविधियों को बंद कर दिया गया है। इस संबंध में जिला मजिस्ट्रेट एवं जिला कलेक्टर सवाई माधोपुर राजेंद्र किशन ने गुरुवार शाम को आदेश जारी किए हैं।

उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए संपूर्ण नगरपरिषद क्षेत्र सवाई माधोपुर और गंगापुरसिटी तथा नगरपालिका क्षेत्र बामनवास में संचालित समस्त राजकीय एवं निजी विद्यालयों में कक्षा एक से आठवीं तक की ऑफलाइन शिक्षण गतिविधियों को 7 जनवरी से 16 जनवरी तक बंद कर दिया गया है। ऑनलाइन अध्ययन की सुविधा जारी रहेगी। शिक्षक 15 से 18 साल तक के आयु वर्ग के वैक्सीनेशन में सहयोग करेंगे। पिछले कुछ माह से सवाई माधोपुर जिला कोरोना संक्रमण मुक्त जिलों की सूची में शामिल था, लेकिन सोमवार को मिले दो पॉजिटिव केस के बाद अब सवाई माधोपुर भी कोरोना संक्रमित जिलों की सूची में आ गया है और जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। चिकित्सा विभाग ने कोविड जांच बढा़ने के निर्देश दिए हैं, लेकिन लोग सामान्य फ्लू समझकर कोविड की जांच नहीं करवा रहे हैं। अधिकांश लोग सर्दी, खांसी व बुखार को सामान्य मानकर मेडिकल से दवा लेकर काम चला रहे हैं। मामला ज्यादा बिगड़ने पर लोग चिकित्सकों की शरण में जा रहे हैं। इसके चलते चिकित्सकों के लिखने पर कोविड की जांच हो रही है। इसके अलावा इमरजेंसी मामलों में ही लोग कोविड की जांच करवा रहे हैं। चिकित्सकों का कहना है कि अधिक से अधिक संख्या में कोविड की जांच करवाकर ही संक्रमण को फैलने से रोका जा सकता है। अभी जिला अस्पताल में 800 से एक हजार सैंपलों की जांच रोजाना हो रही है। अभी मंदिरों में कोरोना गाइड लाइन की पालना के साथ दर्शनार्थियों कों दर्शनों की अनुमति है। त्रिनेत्र गणेश मंदिर व बरवाडा चौथ माता मंदिर ट्रस्ट के पदाधिकारियों के अनुसार मंदिर में अभी केवल पूजा, प्रसाद व फूल माला ले जाने पर रोक है।

सख्ती : सतर्कता के लिए मंदिरों में पूजा, प्रसाद चढ़ाने पर रोक

चौथ का बरवाड़ा | चौथ का बरवाड़ा में हर साल माघ महीने की चतुर्थी पर लगने वाला 7 दिवसीय लक्खी मेला इस बार निरस्त कर दिया गया है। मेले को लेकर गुरुवार को कलेक्टर सवाई माधोपुर में जनप्रतिनिधियों तथा अधिकारियों की बैठक हुई, जिसमें सभी से सुझाव लिया गया तथा बाद में उन सुझाव के आधार पर कलेक्टर राजेंद्र किशन ने इस बार मेला निरस्त करने की बात कही तथा मंदिर के पट बंद किए जाएंगे या नहीं। इसके बारे में निर्णय राज्य सरकार की गाइड लाइन पर लिए जाने को लेकर अवगत कराया। कलेक्टर ने कहा कि किसी भी प्रकार की भीड़ इकट्ठी नहीं होनी चाहिए तथा कोरोना को देखते हुए मेले का आयोजन उचित नहीं है। कलेक्टर राजेंद्र किशन की अध्यक्षता में चौथ माता मेले को लेकर हुई बैठक में जिले के सभी विभाग के अधिकारियों तथा जनप्रतिनिधियों को बुलाया गया। मेले का आयोजक ग्राम पंचायत तथा चौथ माता मंदिर ट्रस्ट सहित स्थानीय प्रशासन के लोग भी बैठक में मौजूद रहे। इस दौरान कलेक्टर ने सभी से मेले को लेकर सुझाव लिए।

खबरें और भी हैं...