दीपों से रोशन हुआ पर्व:मंदिरों में अन्नकूट, नए अन्न से पकवान बनाकर लगाया भोग, लोगों को प्रसादी वितरित की,गोवर्धन की पूजा

सवाई माधोपुर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बालेर| गोवर्धन पूजा पर फुलझड़ी चलाते बच्चे। - Dainik Bhaskar
बालेर| गोवर्धन पूजा पर फुलझड़ी चलाते बच्चे।
  • जिलेभर में उत्साह-उल्लास के साथ मनाई दीपावली, खेंखरा, भाईदूज

जिला मुख्यालय सहित आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में पांच दिवसीय दीपमालिका का पर्व दीपावली परंपरागत तरीके से हर्ष एवं उल्लास के साथ धूमधाम से मनाया गया। गुरुवार को दीपावली के दिन लोगों ने रंग-बिरंगी रोशनी से घरों एवं प्रतिष्ठानों को सजाया तथा नए परिधान पहनकर रात्रि को शुभ मुहूर्त में महालक्ष्मीजी की पूजा-अर्चना की। लक्ष्मी पूजन के बाद लोगों ने पटाखे फोड़े। शुक्रवार की रात को महिलाओं द्वारा सामूहिक रूप से गोवर्धन की पूजा की गई तथा मंदिरों में अन्नकूट महोत्सव का आयोजन किया गया। अगले दिन शनिवार को भाईदूज के अवसर पर बहनों ने भाइयों की माथे पर मंगल टीका लगाया। इसी के साथ ही पांच दिवसीय दीपावली के त्योहार का समापन हुआ।

बांटा अन्नकूट का प्रसाद दीपावली पर्व के दौरान लक्ष्मी पूजन के दूसरे दिन शुक्रवार को गोवर्धन पूजन किया गया। इस अवसर पर गोबर से भगवान गोवर्धन बनाकर सामूहिक रूप से महिलाओं द्वारा गोवर्धन भगवान की पूजा-अर्चना कर परिक्रमा की गई। इसके बाद पंच मेवे की प्रसादी वितरित की गई। मंदिरों में भगवान के भोग लगाने के बाद श्रद्धालुओं को अन्नकूट की प्रसादी वितरित की गई। श्रद्धालुओं ने भगवान गोवर्धन के भोग लगाकर परिवार की कुशल कामना की। कई स्थानों पर लोगों को पंगत में एक जगह बैठाकर अन्नकूट का प्रसाद ग्रहण करवाया गया। इसमें बाजरा, कढ़ी, पूए एवं रामभाजा का प्रसाद वितरित किया गया।

बहनों ने की लंबी उम्र की कामना शनिवार को भाईदूज के त्योहार पर बहनों ने भाइयों को तिलक लगाकर उनकी आरती उतारी तथा भाई की लम्बी उम्र की कामना की। इसके बाद भाइयों ने बहनों को उपहार स्वरूप रुपए, कपड़े, उपहार आदि अन्य सामान भेंट किए। इससे पूर्व गली-मोहल्लों में महिलाओं ने सामूहिक रूप से भाईदूज मनाकर कहानी सुनी। मोहल्ले की बुजुर्ग महिलाओं ने भाईदूज की कहानी सुनाई। इसके बाद बहनों ने घर जाकर भाइयों के तिलक लगाया।श्री विजयेश्वर धर्मार्थ ट्रस्ट शिव मंदिर बजरिया के तत्वावधान में दीपावली का महापर्व धूमधाम से मनाया गया। दीपावली महापर्व की समाप्ति पर शनिवार को भगवान को भोग लगाकर प्रसादी वितरित की गई। ट्रस्ट अध्यक्ष कुंज बिहारी अग्रवाल एडवोकेट ने सर्वप्रथम धनतेरस के दिन भगवान कुबेर की पूजा अर्चना की गई व प्रसाद वितरण किया गया। 4 नवम्बर 2021 को दीपावली पर वैंकटेश भगवान, राधा कृष्ण भगवान, महालक्ष्मी माता, भूदेवी, शिव पार्वती, गणेश का दिव्य औषधियों से महा अभिषेक किया गया व झांकियां सजाई गई।

दीपोत्सव के तहत मंदिर को रंग बिरंगी रोशनी से सजाया गया, महा आरती की गई तथा महिलाओं ने मंदिर परिसर में दीपक जलाए। 5 नवंबर को गोवर्धन पूजा की गई एवं अन्नकूट प्रसादी कढ़ी, बाजरा व राम भाजा का भगवान को भोग लगाकर महा आरती की गई। इसके बाद श्रद्धालुओं को कढ़ी, बाजरा व रामभाजा का प्रसाद वितरण किया गया।प्रसादी का वितरण पांच दिवसीय दीपोत्सव के तहत गोवर्धन पूजा के अवसर पर श्री सीताराम मंदिर विकास समिति बावड़ी जटवाड़ा खुर्द के तत्वाधान में मंदिर परिसर में अन्नकूट प्रसादी का आयोजन किया गया। इसमें कॉलोनी वासियों ने सहयोग किया। कार्यक्रम से जुड़े मंदिर सीताराम जी ट्रस्ट सदस्य हनुमान सिंह नरूका ने बताया कि श्री सीताराम भगवान को भोग लगाकर प्रसादी का वितरण किया गया। प्रसादी के लिए लोगों की खासी भीड़ उमड़ी। इसी तरह शहर में शनिवार को गोवर्धन भगवान की पूजा अर्चना की गई एवं भगवान गोवर्धन की 7 कोस की परिक्रमा की।

मलारना डूंगर| कस्बे सहित आसपास के गांवों में पांच दिवसीय दीपावली का त्योहार परंपरागत हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। मंगलवार को धनतेरस का त्योहार मनाया गया। इस अवसर पर आयुर्वेद औषधालयों में आयुर्वेद चिकित्सा के जनक भगवान धन्वंतरि की पूजा अर्चना की गई। इसके अलावा लोगों ने आभूषण, वाहन, बर्तन आदि की खरीदारी की। बुधवार को रूप चतुर्दशी तथा गुरुवार को दीपावली का त्योहार मनाया गया। लोगों ने अपने घरों व प्रतिष्ठानों को दीपक तथा आकर्षक विभिन्न रंग की बिजली की लाइटों से सजाया। दीपावली के दिन लोगों ने लक्ष्मी पूजन किया तथा परिवार की सुख-समृद्धि आरोग्य की कामना की। इस अवसर पर लोगों ने एक दूसरे को दीपावली की शुभकामनाएं दी। घरों के सामने एवं जगह-जगह आतिशबाजी कर खुशी प्रकट की। शुक्रवार को गोवर्धन का त्योहार मनाया गया इस अवसर पर गोवर्धन की पूजा की गई। मंदिरों में अन्नकूट का आयोजन कर प्रसाद वितरित किया। शनिवार को भाई दूज का त्योहार मनाया गया।

चौथ का बरवाड़ा| कस्बे सहित आसपास के क्षेत्र में दीपावली का त्योहार हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस अवसर पर लक्ष्मीजी की पूजा की गई तथा दूसरे दिन गोवर्धनजी की पूजा कर मनौतियां मांगी गई। शनिवार को भाई दूज का त्योहार मनाया गया। इस बार दीपावली पर अच्छी रौनक देखने को मिली। पिछले 2 सालों से कोरोना संक्रमण के चलते दीपावली के त्योहार पर जो मायूसी छाई हुई थी, इस बार अच्छी खरीदारी तथा लोगों की भीड़ ने लोगों के चेहरे पर खुशी ला दी। इस बार रिकॉर्ड तोड़ बिक्री के चलते दुकानदारों के चेहरे पर असर नजर आए तथा व्यापार अच्छा हुआ।

खिरनी| कस्बे सहित आसपास के गांवों में दीपावली का त्योहार हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। धनतेरस पर लोगों ने बाजारों में जमकर आभूषण, बर्तनों की खरीदारी की तथा अपने घरों में धन की पूजा की। रूप चौदस के दिन यम यातना से बचने लिए अपने घरों में दीपक जलाकर रूप चौदस का त्योहार मनाया गया। लक्ष्मी पूजन के दिन सभी के घरों के तरह तरह के पकवान बनाए गए तथा लक्ष्मी पूजन करते हुए परिवार में सुख समृद्धि की कामना की। गोवर्धन के दिन गोवर्धन बनाकर परिवार के साथ समूह में पूजा अर्चना की गई। वहीं कस्बे के केशवरायजी मन्दिर, लक्ष्मीनाथजी मन्दिर सहित अन्य मंदिरों में भक्तों के सहयोग से अन्नकूट का भगवान को भोग लगाकर श्रद्धालुओं प्रसाद वितरित किया गया। भाई दूज पर बहिनों ने अपने भाइयों के मस्तक पर तिलक लगाकर उनकी लम्बी उम्र की कामना की। बदले में भाइयों ने भी अपनी बहिनों को वस्त्र-आभूषण आदि उपहार भेंट किए।

भाड़ौती| कस्बे सहित आसपास के गांवों में दीपावली का त्योहार हर्षोल्लास से मनाया गया। गुरुवार को दीपावली पर घरों को सजाकर घर घर में लक्ष्मी पूजा की गई एवं कई प्रकार के व्यंजन बनाए गए। शुक्रवार को गोवर्धन पूजा के अवसर पर गोबर का गोवर्धन बनाकर पूजा की गई। गायों को चारा खिलाया गया, वहीं दूसरी ओर क्षेत्र में भारजा नदी मे अनोखी गोवर्धन पूजा चर्चा का विषय बनी रही। तीन ढाणियों के सैकड़ों महिला-पुरुषों ने एक जगह पर बड़ा गोवर्धन बनाकर एक साथ पूजा की एवं पूरे गांव के वाहनों ने गोवर्धन के परिक्रमा की।

पीपलवाड़ा| क्षेत्र के रवांजना चौड़, पीपलवाड़ा, खिजूरी, पांचोलास, रवांजना डूंगर सहित आसपास के गांवों में दीपावली का त्योहार हर्षोल्लास से मनाया गया। गोवर्धन पर गोबर के गोवर्धन बनाकर उनकी पूजा की तथा मंदिरों में अन्नकूट का आयोजन किया गया। भाई दूज पर बहनों ने भाइयों के तिलक करते हुए उनकी लंबी आयु की कामना की तथा भाइयों ने भी बदले में बहनों को उपहार भेंट किए।कुस्तला| कस्बे सहित आसपास के मुई, गंभीरा, जुगाड़, विजयपुर, सिवायगंज सहित अन्य गांवों में दीपावली का त्योहार हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। दीपावली पर महालक्ष्मी का पूजन किया गया। दूसरे दिन गोवर्धन पूजा की तथा मंदिरों पर अन्नकूट का भगवान के भोग लगाया एवं प्रसाद वितरण किया। भाई दूज पर भाइयों की कलाई पर बहनों ने रक्षा सूत्र बांधा। भाइयों ने भी बहनों को उपहार भेंट किए।

खबरें और भी हैं...