समस्या:डिवाइडर के चलते संकरा हुआ बजरिया का बाजार, वाहन खड़े रहने से आवागमन रहता है बाधित

सवाई माधोपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सवाई माधोपुर। अतिक्रमण सहित अव्यवस्थाओं का शिकार बजरिया का मुख्य बाजार। - Dainik Bhaskar
सवाई माधोपुर। अतिक्रमण सहित अव्यवस्थाओं का शिकार बजरिया का मुख्य बाजार।
  • नगर परिषद प्रशासन एवं जिला प्रशासन की अनदेखी के कारण ज्यादातर आवगमन रहता बाधित

बजरिया का मुख्य बाजार अव्यवस्थाओं का शिकार है। इसका मुख्य कारण नगर परिषद प्रशासन एवं जिला प्रशासन की अनदेखी है। सब्जी मंडी रोड, भारत पेट्रोलियम का पम्प पूरी तरह अतिक्रमण की चपेट में है। डिवाइडर बनने से बजरिया मुख्य बाजार की सड़क सिकुड़ गई है। सड़क किनारे दोनों तरफ वाहनों का जमावड़ा रहता है, जिससे अक्सर आवागमन बाधित रहता है।

क्या इन हालातों से आगामी दिनों में आमजन को राहत मिलेगी ? जिला अस्पताल के सामने से सौन्दर्यीकरण के नाम पर हटाए गए अतिक्रमण एवं परिषद के नए आयुक्त के दावों से तो कुछ ऐसा ही प्रतीत होता है। अब यह तो समय बताएगा कि बजरिया के हालात सुधरेंगे या बद से बदतर होंगे।सड़क पर खड़े हो रहे फल-सब्जी विक्रेताबजरिया में सबसे ज्यादा हालात सब्जी मंडी रोड़ पर है। यहां नगर परिषद द्वारा कई साल पूर्व सड़क के दोनों तरफ किनारों पर लोहे के पाइप लगाकर सब्जी व फल ठेले संचालित करने के लिए सीमांकन किया गया था। इसके बावजूद सब्जी व फल विक्रेता सीमा लांघकर सड़क पर ही ठेले संचालित कर रहे हैं। इतना ही नहीं फल व सब्जी विक्रेता बीच सड़क पर काबिल हो गए हैं, जिससे सब्जी मंडी रोड पर पूरी तरह आवागमन बाधित रहता है।

इस सड़क से अतिक्रमण हटाने में नगर परिषद प्रशासन ही नहीं जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन भी नाकाम रहा है।अतिक्रमण के चलते पेट्रोल पंप वाले परेशानबजरिया मुख्य बाजार में भारत पेट्रोलियम का पम्प है। पूर्व में इसी पम्प से सरकारी गाड़ियां व ज्यादातर वाहन चालक पेट्रोल व डीजल भरवाते थे। भारी वाहनों की आवाजाही भी यहां आसानी से होती थी, लेकिन अब हालात विपरीत है। प्रशासनिक अनदेखी व राजनीतिक संरक्षण के चलते पम्प के चारों तरफ अतिक्रमियों की बाढ़ आ गई है। पेट्रोल पम्प तक दुपहिया वाहनों को पहुंचने में ही काफी मशक्कत करना पड़ती है। ऐसे में चौपहिया एवं भारी वाहनों के पम्प तक जाने की बात करना बेमानी होगा। अतिक्रमण के चलते पम्प तक पहुंचने का रास्ता नहीं होने से वाहन चालकों ने इस पम्प की ओर से मुंह फेर लिया है। इसके चलते पम्प संचालक बर्बादी के कगार पर पहुंच गया है।

पम्प मालिक ने अतिक्रमण हटाने के लिए कई बार परिषद, जिला प्रशासन एवं पुलिस प्रशासन को गुहार लगाई, लेकिन उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई और भारी तादाद में अतिक्रमियों ने केबिन, फल-सब्जी के ठेले लगाकर पम्प तक जाने का रास्ता पूरी तरह अवरुद्ध कर दिया है।जब बजरिया में डिवाइडर नहीं था तब हालात अच्छे थे। यहां से वाहनों की भी आसानी से आवाजाही होती थी, लेकिन डिवाइडर बनने के बाद हालात पूरी तरह बिगड़ गए हैं और सड़क सिकुड़ गई है। इतना ही नहीं बजरिया मुख्य बाजार की सड़क के दोनों तरफ आधी सड़क पर वाहनों के खड़े होने से आए दिन वाहन चालकों को जाम के हालात से दो-चार होना पड़ता है। इन हालातों से निजात दिलाने में नगर परिषद प्रशासन पूरी तरह नाकाम साबित हुआ है।नगर परिषद एवं जिला व पुलिस प्रशासन की अनदेखी का आलम यह है कि रोजाना प्रात: सब्जी मंडी तिराहे पर सड़क पर फल व सब्जी की बोली लगती है।

सड़क पर ही आड़तियाओं के माल से भरे वाहन खड़े रहते हैं तथा सड़क पर ही कांटे लगाकर माल की तुलाई भी होती है। ऐसे में सुबह के समय इस तिराहे से निकलना जंग लड़ने के समान है। कई बार जाम में फंसने के चलते लोगों की प्रात: ट्रेन भी छूट जाती है, और लोग प्रशासन को अव्यवस्थाओं के लिए कोसते हुए चले जाते हैं।व्यवस्थाओं को लेकर व्यापार मंडलों की बैठक लेंगे^जिला अस्पताल के सामने से केबिनों को हटवाया गया है। धीरे-घीरे कर जिला मुख्यालय की व्यवस्थाओं में सुधार किया जाएगा। एक साथ सारे काम नहीं हो सकते हैं। सब्जी मंडी एवं बजरिया के हालात भी सुधारे जाएंगे।

सब्जी मंडी में पाइप के पीछे सब्जी व फलों के ठेले लगवाने की व्यवस्था की जाएगी। आवारा मवेशियों को लेकर भी कार्रवाई की जाएगी। शहर की व्यवस्थाओं को लेकर व्यापार मंडलों की बैठक ली जाएगी। प्रतिष्ठानों पर व्यापारियों से कचरा पात्र रखने के लिए कहा जाएगा। परिषद के खाते शुरु होने पर जगह-जगह परिषद की ओर से भी कचरा पात्र लगवाए जाएंगे। उक्त सभी काम प्राथमिकता के आधार पर किए जाएंगे।- नवीन भारद्वाज, आयुक्त, नगर परिषद, सवाईमाधोपुर

खबरें और भी हैं...