पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जलीय जीवों की गणना शुरू:राष्ट्रीय चंबल घड़ियाल सेंचुरी में जलीय जीवों की गणना शुरू

सवाई माधोपुर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पहले दिन धीरोली से लेकर रामेश्वर घाट तक बोट में बैठकर पांच सदस्यीय टीम ने जुटाए जलीय जीवों के आंकड़े

राष्ट्रीय चंबल घड़ियाल सेंचुरी में सोमवार से जलीय जीवों की गणना शुरू हो गई। जिले में पाली घाट से सुबह 8 बजे गणना के लिए 5 सदस्यीय टीम बोट से रवाना हुई। पहले दिन शाम करीब 5 बजे तक टीम में शामिल सदस्यों ने धीरोली से लेकर रामेश्वर घाट तक करीब सवा सौ किमी लंबे चंबल नदी क्षेत्र का भ्रमण किया। इस दौरान टीम ने घडियाल, मगरमच्छ सहित अन्य जलीय जीवों के आंकडे जुटाए। एक सप्ताह तक चलने वाली गणना के बाद ही पता चल पाएगा कि इस वर्ष चंबल में जलीय जीवों की संख्या बढ़ी है या घटी।गणना टीम में शामिल रेंजर तुलसीराम ने बताया कि गणना के दौरान सुबह गुडला के पास मगरमच्छ देखें। सुबह के समय यहां कई प्रजाति के देशी व विदेशी पक्षी भी जलक्रीडा करते देखे गए। इसके अलावा पाली के पास पार्वती व चंबल नदी के संगम पर बने टापू के बीच कई जलीय जीवों के आंकडे जुटाए। रामेश्वर घाट क्षेत्र में घड़ियाल रेत के टीलों पर धूप सेकते मिले। करीब सवा सौ किमी क्षेत्र का दौरा कर शाम को टीम वापस लौट आई।गौरतलब है कि घड़ियाल सहित अन्य जलीय जीवों के संरक्षण को लेकर चंबल को राष्ट्रीय अभयारण्य का दर्जा मिलने के बाद से पिछले कुछ वर्षों से घड़ियालों के साथ जलीय जीवों के कुनबे में वृ्द्धि हुई है। गत वर्ष गणना के दौरान चंबल में 900 घड़ियाल मिले हैं, जबकि इससे पूर्व वर्ष 2003 में 540 घड़ियाल थे। गणना के दौरान टीम में रेंजर तुलसीराम मीना, रामकिशन गुर्जर, सांवरमल, बबलू, कुलदीप सिंह, ओमप्रकाश व गंगाराम आदिशामिल थे।

पर्यटकों को लुभा रही चंबल की खूबसूरत वादियांरणथंभौर नेशनल पार्क के साथ ही चंबल अभयारण्य भी पर्यटकों की पसंद बनता जा रहा है। पिछले कुछ वर्षों से चंबल में बोटिंग शुरू होने के बाद पर्यटकों को चंबल की वादिया लुभा रही है। चंबल में जल क्रीडा करते प्रवासी पक्षियों के साथ ही रेत व घास के टापूओं पर धूप सेकते घड़ियालों को देखकर पर्यटक मंत्रमुग्ध हो जाते है। इसके अलावा यहां का प्राकृतिक सौंदर्य भी पर्यटकों के मन मस्तिष्क पर अमिट छाप छोड़ रहा है।घड़ियालों के साथ ही 30 प्रजाति की मछलियां भीउभयचर और जलीय जानवरों में घड़ियाल व आठ प्रजाति के कछुए, 30 प्रजातियों की मछलियां नदी में पाई जाती है। इनमें चिकनी-लेपित ओटर और गंगेटिक डॉल्फिन आदि शामिल है।^चंबल घड़ियाल अभयारण्य में जलीय जीवों की गणना शुरू हो गई है। जलीय जीवों की वास्तविक स्थिति का पता एक सप्ताह बाद ही चल पाएगा।-फुरकान अली, डीएफओ, चंबल घड़ियाल अभयारण्य

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप प्रत्येक कार्य को उचित तथा सुचारु रूप से करने में सक्षम रहेंगे। सिर्फ कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा अवश्य बना लें। आपके इन गुणों की वजह से आज आपको कोई विशेष उपलब्धि भी हासिल होगी।...

    और पढ़ें