भयानक हादसा:पीपलदा में ट्रैक्टर-बाइक में भिड़ंत, बाइक सवार दो युवक उछलकर सड़क पर गिरे, मौत

सवाई माधोपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जस्टाना। पीपलदा गांव में हुए हादसे के बाद मौके पर जमा ग्रामीण। - Dainik Bhaskar
जस्टाना। पीपलदा गांव में हुए हादसे के बाद मौके पर जमा ग्रामीण।
  • रफ्तार इतनी तेज थी कि चालक नहीं कर पाया ट्रैक्टर को नियंत्रित

जस्टाना पीपलदा गांव में सोमवार दोपहर को एक खाली ट्रैक्टर ट्रॉली की बाइक से आमने-सामने की टक्कर हो गई, जिसमें बाइक सवार दोनों युवकों की मौके पर ही मौत हो गई। दुर्घटना की जानकारी मिलते ही बौंली थानाधिकारी मय जाब्ते के मौके पर पहुंचे तथा दोनों शवों को कब्जे में लेकर बौंली अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया।प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार दोपहर करीब एक बजे मित्रपुरा की तरफ से एक खाली ट्रैक्टर ट्रॉली तेज गति से पीपलदा की तरफ आ रही थी। ट्रैक्टर ट्रॉली ने गांव के मित्रपुरा बस स्टैंड से कुछ दूरी पर सामने से आ रही एक बाइक को टक्कर मार दी, जिससे बाइक सवार मलारना डूंगर थाना क्षेत्र के ओलवाड़ा गांव निवासी राजेश कुमार योगी (19) पुत्र रामस्वरूप योगी तथा दिलखुश (18) पुत्र हरकेश प्रजापत ने मौके पर ही दम तोड़ दिया।

दोनों वाहनों के बीच हुई आमने-सामने की टक्कर इतनी भयानक थी कि टक्कर के बाद दोनों बाइक सवार बाइक से उछलकर दूर रोड पर जा गिरे है और उसी वक्त दोनों की मौत हो गई। वहीं हादसे के बाद अनियंत्रित होकर ट्रॉली भी रोड पर ही पलट गई तथा ट्रैक्टर चालक मौके से फरार हो गया। टक्कर की आवाज सुनकर आसपास के लोग भागकर मौके पर पहुंचे तथा पुलिस को सूचना दी। सूचना पर बौंली पुलिस तत्काल मौके पर पहुंची तथा दोनों शवों को उठाकर बौंली अस्पताल की मोर्चरी में रखवाया।बौंली थानाधिकारी श्रीकिशन मीणा ने बताया कि पीपलदा में ग्रामीणों से मिली दुर्घटना पर मौके पर पहुंचे। वहां जाकर पता चला कि एक खाली ट्रैक्टर-ट्रॉली चालक ने बाइक के टक्कर मार दी, जिससे बाइक सवार दोनों युवकों की मौके पर मौत हो गई है।

दो बहनों के बीच अकेला भाई था दिलखुश

मृतक दिलखुश के फुफेरे भाई शंकल लाल ने बताया कि मैरे मामा के पुत्र दिलखुश दो बहिनों के बीच अकेला लडका है, जो पढाई करता था। दिलखुश की दोनों बहनें शादीशुदा है तथा बढ़े मां बाप की सेवा करने वाला वहीं था। अब दिलखुश की मृत्यु होने पर उनका कोई सहारा नहीं बचा है। वहीं मृतक राजेश योगी के एक बहिन व एक भाई है। उसका पिता मजदूरी करता है तथा राजेश पढाई करता था। राजेश योगी व दिलखुश प्रजापत दोनों एक बाइक से किसी काम से जयपुर जा रहे थे। दोनों युवकों की मौत की खबर के बाद ओलवाड़ा गांव में शोक की लहर दौड गई है। दोनों मृतक युवकों के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हो रहा है। वहीं दूसरी ओर ग्रामीणों ने संभावना जताई है कि ट्रैक्टर-ट्रॉली बजरी परिवहन का कार्य करती थी।

ग्रामीण बोले- हादसे का जिम्मेदार प्रशासन

पीपलदा में हुए दर्दनाक हादसा में मारे गए युवकों की मौत पर मौके उपस्थित ग्रामीणों ने घटना का जिम्मेदार प्रशासन को ठहराते प्रशासन के खिलाफ रोष जताया है। ग्रामीणों का कहना है कि बजरी खनन पर रोक को लेकर हाइकोर्ट के निर्देशों की अवहेलना व प्रशासन को चुनौती देकर धडल्ले से बजरी का खनन व निर्गमन हो रहा है। बजरी माफिया सड़कों व आम रास्तों पर आए दिन निर्दोष लोगों की जान ले रहे हैं। मामले को लेकर खनन विभाग की कार्यशैली पर सवाल खड़े हो रहे हैं। जनता के सामने प्रशासन की छवि धूमिल हो रही है। पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी माफियाओं के हमले के शिकार हो रहे हैं, लेकिन फिर भी विभाग चुप बैठा है। माफिया सड़कों व गांवों के कच्चे रास्तों पर पूरी तरह काबिज हो रहे हैं। आम जनों का सड़कों पर चलना मुश्किल हो रहा है। ग्रामीणों ने प्रशासन से बढते बजरी माफियाओं के आतंक को नियंत्रित करने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...