पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर की खबर पर मुहर:कांग्रेस की सुदामा को मिला माधोपुर; जिला प्रमुख बनीं, 7 में से 4 समितियों में भाजपा और 3 पर कांग्रेस जीती, खंडार में बहुमत के बावजूद कांग्रेस ने गंवाई सीट

सवाई माधोपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सवाई माधोपुर | पंचायत समिति सवाई माधोपुर में नगर परिषद के सामने जमा लोगों की भीड़। - Dainik Bhaskar
सवाई माधोपुर | पंचायत समिति सवाई माधोपुर में नगर परिषद के सामने जमा लोगों की भीड़।
  • सवाई में निरमा, खंडार में नरेंद्र, गंगापुर में मंजू, बरवाड़ा में संपत, बौंली में कृष्ण, मलारना में देवपाल, बामनवास में शशिकला प्रधान

जिला परिषद सवाई माधोपुर के जिला प्रमुख पद पर कांग्रेस की सुदामा मीना विजयी रही है। इन्होंने 17 मत प्राप्त कर भाजपा की बीना देवी को 9 मतों से करारी शिकस्त दी है। सवाई माधोपुर जिला प्रमुख के लिए हुएचुनावों में कांग्रेस की सुदामा मीना को 17 तथा भाजपा की बीना देवी को 8 मत मिले हैं। मतों कीगणना के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी राजेन्द्र किशन ने परिणामों की घोषणा करते हुए कांग्रेस की सुदामा मीना को विजयी घोषित कर दिया।परिणामों की घोषणा होते ही कांग्रेस खेमे में खुशी की लहर दौड़ गई। वहीं पंचायत समितियों में चार भाजपा व तीन कांग्रेस के खाते में आई है।जिला परिषद में 25 सदस्य है।

इसमें कांग्रेस के 16, भाजपा के 8 तथा एक निर्दलीय उम्मीदवार ने विजयी हासिल की। संख्या बल के अनुसार कांग्रेस सबसे बड़े दल के रूप में उभरकर सामने आई। जिला प्रमुख पद के लिए कांग्रेस ने वार्ड 11 से कांग्रेस के टिकट पर विजयी रही सुदामा मीना को अपना उम्मीदवार घोषित किया। वहीं संख्या बल नहीं होने के बावजूद कांग्रेस को वॉकओवर नहीं देते हुए भाजपा ने वार्ड 4 से विजयी उम्मीदवार बीना देवी को अपना प्रत्याशी घोषित किया।भाजपा प्रत्याशी को भाजपा जिला प्रभारी मदन दिलावर नामांकन के लिए जिला परिषद परिसर मतदान स्थल लेकर पहुंचे तथा नामांकन दाखिल कराया। इसके बाद कांग्रेस की जिला प्रमुख की प्रत्याशी सुदामा मीना अपने पति डिग्गी मीना तथा समर्थक के साथ नामांकन दाखिल करने पहुंची।

नियत समय तक मात्र दो लोगों ने ही जिला प्रमुख पद के लिए नामांकन दाखिल किया।भाजपा के सात मतदाता जिला प्रमुख उम्मीदवार बीना देवी के साथ एक साथ मतदान के लिए पहुंचे। इसके बाद भाजपा के प्रेम प्रकाश शर्मा अकेले मतदान करने पहुंचे। भाजपा के सभी आठ मत डाले जाने के बाद विधायक दानिश अबरार लगभग 4.25 बजे कांग्रेस प्रत्याशी सुदामा सहित लगभग 13 कांग्रेस के जिला परिषद सदस्यों को लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचे। इसके बाद एक अन्य कार से कांग्रेस के चार जिला परिषद सदस्य भी मतदान के लिए पहुंचे। सभी 25 सदस्यों के मतदान करने के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी ने मतों की गणना की। मतों की गणना में कांग्रेस की सुदामा मीना को 17 तथा भाजपा की बीना देवी को 8 मत प्राप्त हुए।

इसके बाद जिला निर्वाचन अधिकारी ने कांग्रेस की सुदामा मीना को विजयी घोषित कर दिया।जिला परिषद परिसर में जिला प्रमुख के चुनावों को लेकर पुलिस व्यवस्था शानदार रही। राजीव गांधी सेवा केन्द्र के पास बैरिकेड्स लगाकर पुलिस जाप्ता तैनात किया। यहां सुरक्षा की जिम्मेदारी एएसपी सुरेन्द्र कुमार दानोदिया के निर्देशन में डीएसपी कृष्णा सामरिया को दी गई। वहीं मानटाउन थानाधिकारी कुसुमलता मीना मय पुलिस जाप्ते के मुस्तैदी से बैरिकेड्स के पास ही मोर्चा संभाले रही। जिला प्रमुख के मतों की गणना होने तथा जिला प्रमुख पद के विजेताउम्मीदवार की घोषणा होने पर मानटाउन थानाधिकारी ने नव निर्वाचित जिला प्रमुख सुदामा मीना को अपनी गाड़ी से सुरक्षित घर पहुंचाया।

रोचक घटनाक्रम खंडार में : पंचायत समिति में स्पष्ट बहुमत कांग्रेस को था, लेकिन प्रधान भाजपा का बनाइस पूरे चुनावों में सबसे ज्यादा रोचक घटनाक्रम खण्डार पंचायत समिति में हुआ है, यहां पर कांग्रेस का स्पष्ट बहुमत होते हुए भी भाजपा ने अपना प्रधान बना लिया है। इस बार जिला प्रमुख की कुर्सी पर कांग्रेस की सुदामा मीना, खण्डार प्रधान भाजपा के नरेन्द्र चौधरी, चौथ का बरवाड़ा में कांग्रेस की संपत पहाड़िया, सवाईमाधोपुर में कांग्रेस की निरमा मीना, मलारना डूंगर में कांग्रेस के देवपाल मीना, बौंली में भाजपा के कृष्ण पोषवाल, बामनवास में भाजपा की शशीकला मीना एवं गंगापुर सिटी में भाजपा की मंजू गुर्जर निर्वाचित हुई है। इस चुनावों में 2015 की तुलना में इस बार भाजपा ने बेहतर प्रदर्शन कर कांग्रेस से दो प्रधान की सीट छीन ली है।

पहले कांग्रेस छोड़ी, फिर भाजपा की सदस्यता लेकर ठोकी प्रधानी की ताल

खंडार में कांग्रेस का खेल बिगाड़कर प्रधान बने नरेन्द्र चौधरी को लेकर सोमवार को पूरे दिन उठापटक रही। सुबह पूर्व विधायक जितेन्द्र गोठवाल ने नामांकन से पहले घोषणा कर दी थी कि भाजपा की ओर से प्रधान के प्रत्याशी नरेन्द्र चौधरी होंगे। इसके बाद गोठवाल के निवास पर भाजपा प्रदेश पदाधिकारियों की मौजूदगी में चौधरी ने कांग्रेस छोड़कर भाजपा की सदस्यता ली। गोठवाल ने पहले अपने 8 सदस्यों को जमा किया, इसके बाद नरेन्द्र चौधरी दो लोगों के साथ वहां पहुंचे। कुछ देर बाद आरएलपी के दो सदस्य भी वहां पहुंच गए। ऐसे में कुल 14 सदस्य जमा होने के कुछ देर बाद मीडिया को प्रेस ब्रीफ के लिए आमंत्रित किया गया।

भास्कर रिकॉल...पढ़िए, किसने क्या खोया, क्या पाया

वर्ष 2015 में कांग्रेस के पास जिला प्रमुख सहित पंचायत समिति गंगापुर सिटी, बामनवास, बौंली व खण्डार कुल पांच कुर्सियां थी। इस बार कांग्रेस के पास जिला परिषद के साथ सवाईमाधोपुर, चौथ कर बरवाड़ा व मलारना डूंगर कुल चार कुर्सियां आई है। इसी प्रकार पिछली बार वर्ष 2015 में भाजपा के पास सवाई व बरवाड़ा मात्र दो ही प्रधानों की कुर्सियां थी, लेकिन इस बार गंगापुर सिटी, बामनवास, बौंली, खण्डार कुल चार कुर्सियां प्राप्त की है। इस प्रकार भाजपा ने पिछली बार की तुलना में इस बार कांग्रेस से दो कुर्सियां छीनने में सफलता हासिल की है। इनमें से मलारना में प्रधान का चुनाव पहली बार हुआ है।

खबरें और भी हैं...