रणथम्भौर में पर्यटकों के डायवर्ट होने की आशंका:शुक्रवार से खुलने हैं रणथम्भौर के मुख्य पर्यटन जोन, ऑनलाइन बुकिंग खोलने की तारीख व समय अभी तक तय नहीं

सवाई माधोपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बुकिंग विंडो रणथम्भौर टाइगर रिजर्व। - Dainik Bhaskar
बुकिंग विंडो रणथम्भौर टाइगर रिजर्व।

वन विभाग की उदासीनता व लचर रवैया के कारण नए पर्यटन सीजन में पर्यटकों के डायवर्ट होने के आशंका गहराती जा रही है। रणथम्भौर में शुक्रवार से नए पर्यटन सीजन की शुरुआत होनी है, लेकिन अब तक पर्यटकों की ऑनलाइन बुकिंग को शुरू नहीं किया गया है।

रणथम्भौर के होटलियर्स की ओर से नए पर्यटन सीजन की तैयारियों में लाखों रुपए खर्च किए जा चुके है। नया पर्यटन सीजन को शुरू होने में एक दिन बाकी है, लेकिन अब तक रणथंभौर में पर्यटकों की ऑनलाइन बुकिंग को शुरू नहीं किया गया है। ऐसे में पर्यटन व्यवसाय से जुड़े लोगों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है। वन विभाग की साइट पर भी रणथम्भौर की ऑनलाइन बुकिंग के पर्यटकों के लिए जल्द ही शुरू होने की सूचना दी गई है, लेकिन विभाग की ओर से साइट पर निश्चित समय नहीं दिया गया है।

15 सितम्बर के आस पास शुरू हो जाती थी बुकिंग

हर साल आमतौर पर वन विभाग की ओर से एक अक्टूबर से शुरू होने वाले पर्यटन सत्र के लिए 15 सितम्बर के आसपास से पर्यटकों की ऑनलाइन बुकिंग शुरू कर दी जाती थी। वहीं फुल-डे व हॉफ-डे सफारी की ऑनलाइन बुकिंग तो साल भर ही जारी रखी जाती थी, लेकिन इस बार पर्यटन सत्र के शुरू होने में महज दो दिन शेष होने के बाद भी बुकिंग शुरू होने का समय निर्धारित नहीं किया गया है। वन अधिकारियों की माने तो बुधवार शाम छह बजे से पर्यटकों की ऑनलाइन बुकिंग को शुरू कर दिया गया। लेकिन वन विभाग व डीओआईटी की ओर से साइट पर इस संबंध में कोई सूचना जारी नहीं की गई।

गड़बड़ी का अंदेशा

रणथम्भौर में आगामी सत्र की ऑनलाइन बुकिंग शुरू होने में हो रही देरी वन विभाग को भी सवालों के घेरे में ला रही है। वॉइस ऑफ रणथम्भौर और पथिक लोक सेवा समिति से जुड़े मुकेश सीट ने ऑनलाइन बुकिंग में हो रही देरी से बुकिंग प्रक्रिया में गड़बड़ी होने की आशंका भी जताई है। उन्होंने कहा आम तौर पर कभी भी इतनी देर नहीं हुई। ऐसे में इस बार हो रही देरी को देखते हुए बुकिंग प्रक्रिया में हो रही देरी को देखते हुए गड़बड़ी की आशंका से भी इंकार नहीं किया जा सकता है। पूर्व में भी रणथम्भौर की ऑनलाइन पर्यटक बुकिंग में गड़बड़ी के मामले सामने आ चुके हैं।

पर्यटकों के डायवर्ट होने के आशंका

वहीं, रणथंभौर में पर्यटकों की ऑनलाइन बुकिंग में हो रही देरी के कारण पर्यटकों के डायवर्ट होने की आशंका भी जताई जा रही है। रणथम्भौर सफारी व्हीकल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष इकरामुदीन खान ने बताया कि रणथम्भौर में अब तक पर्यटकों की ऑनलाइन बुकिंग को शुरू नहीं किया गया है। एमपी व अन्य कई प्रदेशों के टाइगर रिजर्व में ऑनलाइन बुकिंग को शुरू कर दिया गया है। ऐसे में पर्यटकों के रणथम्भौर के स्थान पर अन्य राज्यों के टाइगर रिजर्व की ओर डायवर्ट होने की आशंका भी बनी हुई है। इससे रणथम्भौर के पर्यटन व्यवसाय को नुकसान होगा।

ऑनलाइन बुकिंग देर से शुरू हुई

वहीं, इस संबंध में वन विभाग का तर्क यह है कि पूर्व में हुई लोकल एडवाइजरी कमेटी (एलएसी) की बैठक में रणथम्भौर में गाइडर्स व वाहन चालकों के शुल्क में दस प्रतिशत की वृद्धि करने का निर्णय किया गया था। इसके बाद इस संबंध में उच्च अधिकारियों को प्रस्ताव भेजे गए थे, लेकिन उच्च स्तर से नई दरों को देरी से अनुमति मिली थी। इस कारण इस बार पर्यटकों की ऑनलाइन बुकिंग को भी देरी से शुरू किया गया था।

फैक्ट फाइल

  • 1 अक्टूबर से खुलेंगे रणथम्भौर के मुख्य जोन
  • 692 पर्यटन वाहन हैं रणथम्भौर में
  • 2 पारियों में कराया जाएगा पर्यटकों को भ्रमण
  • 15 सितम्बर से शुरू कर दी जाती थी पूर्व में ऑनलाइन बुकिंग

इस बार नई दरों के निर्धारण के कारण ऑनलाइन बुकिंग शुरू करने मे देरी हुई। बुधवार शाम छह बजे से ऑनलाइन बुकिंग भी शुरू कर दी गई है। नया पर्यटन सत्र एक अक्टूबर से शुरू हो जाएगा।

संदीप कुमार, डीएफओ, रणथम्भौर बाघ परियोजना (पर्यटन), सवाईमाधोपुर।

खबरें और भी हैं...