रणथम्भौर में वनराज की जगह मवेशी दर्शन:टाइगर सफारी के दौरान पर्यटकों को टाइगर की जगह मवेशी चरते दिखते हैं, इनको रोकने के लिए वन विभाग ने नहीं किए बंदोबस्त

सवाई माधोपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रणथम्भौर के टूरिज्म जोन के मार्ग पर खड़ी मवेशी। - Dainik Bhaskar
रणथम्भौर के टूरिज्म जोन के मार्ग पर खड़ी मवेशी।

रणथम्भौर नेशनल पार्क में आवारा मवेशियों चराई रुकने का नाम नहीं ले रही है। कलेक्टर ने रणथम्भौर वन्यक्षेत्र में धारा 144 लागू कर रखी है, साथ ही कार्यपालक मजिस्ट्रेट नियुक्त कर रखे हो। लेकिन रणथम्भौर नेशनल पार्क के नोन टूरिज्म एरिया के साथ टूरिज्म एरिया में भी अवैध चराई का दौर जारी है। इसको रोकने के लिए वन विभाग की ओर कोई बंदोबस्त नहीं किए गए है।

रणथम्भौर के इंडाला, जैतपुरा सहित जोन नम्बर 6 से 10 में अवैध चराई धड़ल्ले से चल रही है और वनाधिकारी बेखबर बने हुए है। वन विभाग की उदासीनता के चलते टाइगर सफारी के दौरान पर्यटकों को कोर एरिया में खुलेआम मवेशी चरते दिखाई दे रहे हैं, जिससे नेशनल पार्क की छवि भी धूमिल हो रही है। अवैध चराई के लिए वनकर्मियों के साथ वनाधिकारी भी जिम्मेदार है।

इनका कहना है
लगातार पेट्रोलिंग की जा रही है। पूर्व में भी अवैध चराई को रोकने के लिए कार्रवाई की गई है। आगे भी कार्रवाई की जाएगी।
-नारायण सिंह नरूका, क्षेत्रीय वन अधिकारी, रणथम्भौर बाघ परियोजना।

खबरें और भी हैं...