कोरोना यू टर्न:पहली लहर में बुजुर्ग ज्यादा पॉजिटिव, अब युवा हो रहे अधिक संक्रमित

सवाई माधोपुर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिले में कोरोना के एक्टिव संक्रमित 389 में से 256 पैंतालीस से कम उम्र के

कोरोना की दूसरी लहर के ट्रेंड पहली लहर के ट्रेंड से अलग हैं तथा ज्यादा खतरनाक है, लेकिन हम एकजुट और सावधान रहें तो इससे मुकाबला ज्यादा मुश्किल भी नहीं है। जहां कोरोना की पहली लहर में ज्यादा शिकार बुजुर्ग और अधेड़ हुए, वहीं दूसरी लहर युवाओं को ज्यादा शिकार बना रही है। जिले में वर्तमान में 389 पॉजिटिव केस में से 256 यानि दो तिहाई 45 साल से कम आयु के हैं। वहीं 133 केस 45 साल से अधिक आयु वर्ग में है। इसका कारण चिकित्सकों से जाना गया तो उन्होंने बताया कि वैक्सीन लगने से 45 वर्ष से अधिक आयु के कम संक्रमित हो रहे हैं।

जहां पहली लहर में बुजुर्ग और दूसरे गम्भीर रोगों से पीडित व्यक्ति कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता के कारण शिकार बने, वहीं दूसरी लहर में वे कोविड-19 वैक्सीन लगाने के कारण काफी हद तक बच गए।वैक्सीन से रोग प्रतिरोधक क्षमता बन जाती है तथा दुर्भाग्य से वैक्सीन लगने के बाद भी कोरोना हो जाए तो केजुअल्टी के चांस लगभग जीरो है। दूसरी ओर युवाओं में बेहतर रोग प्रतिरोधक क्षमता होने के कारण वे पहली लहर में संक्रमित होने के बावजूद अधिकांश मामलों में तेजी से रिकवर हो गए। लेकिन युवाओं की मोबिलिटी एवं आवाजाही अधिक होने तथा कुछ हद तक लापरवाही बरतने से इस बार दूसरी लहर में 45 वर्ष से कम आयु के एक्टिव मरीजों की संख्या अधिक है। इस संबंध में कलेक्टर राजेन्द्र किशन ने जिले के सभी युवाओं से अपील की है कि कोरोना का नया स्ट्रेन बहुत घातक है। कम से कम घर से निकले, आजीविका के लिए घर से निकलना जरूरी हो तो सही तरीके से मास्क लगा कर ही निकलें, भीड़भाड में जाने से बचें, किसी से भी हाथ न मिलाएं।

जिले में आज की स्थिति में एक्टिव 389 में से 362 पॉजिटिव बिना लक्षण वाले हैं। इसका कारण यह भी हो सकता है कि नए स्ट्रेन में लक्षण भी बदल गए हों। सभी व्यक्ति मास्क लगाएं। कलेक्टर ने बताया कि सावधानी और सतर्कता ही जिले को कोरोना की भयावहता से बचाएगी। संक्रमित की समय पर जांच होने पर जीवन बचने की सम्भावना ज्यादा है। अतः अपने नजदीकी सेंटर पर जाकर आरटी-पीसीआर टेस्ट करवाएं।

खबरें और भी हैं...