तीसरी लहर:ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर चिकित्सा विभाग सतर्क

सवाई माधोपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

गंगापुर ब्लाक में कोविड-19 की तीसरी लहर को लेकर चिकित्सा विभाग पूरी तरह मुस्तैद है। ब्लाक सीएमएचओ बत्तीलाल मीना के नेतृत्व में विभाग एंटी कोरोना एक्टीविटीज पर विशेष ध्यान दे रहा है। ब्लॉक सीएमएचओ बत्तीलाल मीना ने बताया कि फिलहाल मुख्य तौर पर ब्लॉक में सैपलिंग बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। सैपलिंग को लेकर गंगापुर शहरी व ग्रामीण ब्लॉक का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

इसके अलावा कंट्रोल रूम पहले से ही एक्टिव है। कोई भी व्यक्ति कोरोना संदिग्ध की सूचना कंट्रोल रूम नंबर 07463-233377 पर दे सकता है।शहरी क्षेत्र में 89 और ग्रामीण में 83 प्रतिशत टीकाकरण:फिलहाल ओमिक्रॉन वायरस के प्रति विशेष सावधानी बरती जा रही है। इसके लिए घर-घर सर्वे व स्क्रीनिंग व टीके लगाए जा रहे हंै। गंगापुर शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में 200-200 सैपलिंग करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

उन्होंने बताया कि गंगापुर ग्रामीण क्षेत्र में प्रथम टीकाकरण 83 प्रतिशत व गंगापुर शहरी क्षेत्र में 89 प्रतिशत हो चुका है। द्वितीय टीकाकरण ग्रामीण क्षेत्र में 70 प्रतिशत व शहरी क्षेत्र में 64 प्रतिशत हो चुका है। फील्ड कार्यकर्ताओं द्वारा आमजन से लगातार अपील की जा रही है कि यदि कोई भी व्यक्ति विदेश यात्रा से आया हो, वह कोरोना जांच जरूर करवाए। अफ्रीकी देशों से आने वाले यात्रियों के संदर्भ में भी अपील की जा रही है कि ऐसे व्यक्ति के बारे में तुरंत कंट्रोल रूम पर सूचना दी जाए ताकि समय रहते ऐसे यात्रियों की कोरोना जांच कर सभी जरुरी कदम उठाए जा सकें।

लक्षण दिखने पर तत्काल जांच कराएं जिन व्यक्तियों को खांसी, जुकाम, गले में खराश या कोरोना जैसे लक्षण दिखाई दें तो तुरंत नजदीकी सरकारी अस्पताल में जाकर उपचार कराएं। ब्लाक सीएमएचओ डॉ. बत्तीलाल मीना ने बताया कि घर-घर सर्वे के दौरान आमजन को मास्क लगाने, भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर नहीं जाने, बार-बार साबुन से हाथ धोने आदि के लिए जागरूक किया जा रहा है।

कोविड की दोनों डोज लगवाना आवश्यक वर्तमान में कोविड-19 की तीसरी लहर और ओमिक्रॉन वायरल संक्रमण के खतरे को देखते हुए ब्लाक सीएमएचओ ने आमजन से अपील की है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए दोनों डोज अनिवार्य है। जिसने पहली डोज लगवा ली है उसे निश्चिंत होकर नहीं बैठना है, दूसरी डोज भी समय पर अवश्य लगवानी है। दोनों डोज लगवाने वालों पर वायरस का असर अपेक्षाकृत कम देखा गया है।

खबरें और भी हैं...