प्रशासन नहीं कर रहा अतिक्रमण पर कार्रवाई:सड़क किनारे सब्जी के ठेले और आवारा पशुओं से राहगीर परेशान, आए दिन लगता है जाम, जिम्मेदार नहीं दे रहे ध्यान

सवाई माधोपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बौंली में सड़क पर लगा जाम। - Dainik Bhaskar
बौंली में सड़क पर लगा जाम।

बौंली उपखंड मुख्यालय पर स्थाई सब्जी मंडी नहीं होने से अतिक्रमण मुख्य समस्या बनी हुई है। कस्बे के चारों ओर अतिक्रमण फैला हुआ है। जिससे आमजन को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कस्बे में आवारा पशुओं की तादाद दिनों दिन बढ़ती जा रही है। यह आवारा पशु दिनभर बाजार में घूमते रहते हैं। जिससे राहगीरों का पैदल चलना भी मुश्किल हो गया है। कस्बे के ग्राम पंचायत चौराहा, बस स्टैंड चौराहा व मुख्य मार्ग पर अतिक्रमण के चलते दिन में कई बार जाम लग जाता है।

मामले को लेकर कई बार प्रशासन द्वारा कार्रवाई भी हुई, लेकिन वह कारगर साबित नहीं हुई। कस्बे के मुख्य चौराहों पर सब्जियों के ठेले, चाट पकौड़ी के ठेले, सड़क किनारे बैठकर बेचने वाले सब्जी वालों की तादाद दिनोदिन बढ़ती जा रही है। सड़क के दोनों तरफ अतिक्रमण होने से यहां बार-बार जाम के हालात बनते हैं। थाना पर होने वाली सीएलजी की बैठक में भी यह मामला कई बार उठ चुका है, लेकिन हालात जस के तस बने हुए हैं।

उपखंड की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत, फिर भी कार्रवाई नहीं
बौंली ग्राम पंचायत वैसे तो जिले में सबसे बड़ी ग्राम पंचायत में शुमार है। ग्राम पंचायत में 25 वार्ड पंच, सरपंच, पंचायत समिति सदस्य सहित प्रमुख राजनीतिक दलों के पदाधिकारी कस्बे के विकास के लिए दम भरते हैं, लेकिन यह सच्चाई से कोसों दूर है। यहां के हालात यह है कि मुख्य बस स्टैंड से सदर बाजार एवं पुरानी तहसील कार्यालय की ओर जाने वाले रास्ते में अतिक्रमण के साथ ही आवारा पशुओं के जमावड़े से राहगीर परेशान है।

जिम्मेदारों को लोगों की परेशानी से सरोकार नहीं
कस्बे में उप जिला कलेक्टर, तहसील, पंचायत समिति, थाना आदि सभी प्रशासनिक अधिकारियों के कार्यालय होने के बावजूद किसी को भी राहगीरों की परेशानी से कोई सरोकार नहीं है। ऐसा नहीं है कि प्रशासन को इसकी जानकारी नहीं है। स्थायी सब्जी मंडी की मांग को लेकर प्रशासन को कई बार अवगत करा दिया गया है, लेकिन समस्या का हल नहीं हुआ। लोगों ने कई बार अतिक्रमण एवं आवारा पशुओं की समस्या से भी अवगत कराया है, लेकिन फिर भी प्रशासन ने कोई ठोस कदम उठाकर अतिक्रमण करने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की है।

इनका कहना है
लंबे समय से स्थायी सब्जी मंडी की मांग है, लेकिन उस पर प्रशासन ने कोई ध्यान नहीं दिया है। सब्जी विक्रेताओं के लिए कोई स्थायी जगह नहीं होने से ठेले रोड पर लग रहे हैं। अगर यहां ठेले नहीं लगाए तो आर्थिक संकट गहराएगा।
-जयप्रकाश, सब्जी विक्रेता

स्थायी सब्जी मंडी की मंग को लेकर उच्च प्रशासनिक स्तर तक अवगत करा दिया गया है। जल्द ही समस्या से निजात मिल जाएगी।
-कमलेश देवी जोशी, सरपंच, बौंली

फोटो-: आशीष मित्तल

खबरें और भी हैं...