खाद्य सुरक्षा योजना / खाद्य सुरक्षा योजना में अपात्र लोगों के राशन कार्ड होंगे निरस्त

X

  • सूचियों का सर्वे कर उनका सत्यापन करवाने के निर्देश, कोर कमेटी को सौंपा जाएगा जिम्मा

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

सवाई माधोपुर. राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना की सूचियों में सम्मिलित अपात्र पाए जाने वाले परिवारों के राशन कार्ड एवं अन्य डुप्लीकेट राशनकार्डो का प्रशासन द्वारा निष्कासन किए जाने की तैयारी में है। अपात्र कई परिवारों द्वारा योजना के तहत राशन का गेहूं भी प्राप्त किया जा रहा है। इसके लिए उप जिला कलेक्टर ने एक आदेश जारी कर ग्रामीण क्षेत्र में खाद्य सुरक्षा योजना की सूचियों का सर्वे कर उनका सत्यापन करवाने के लिए संबधित अधिकारियों को निर्देशित किया है। सूचियों का सर्वे एवं सत्यापन ग्रामीण क्षेत्र की कोर कमेटियों द्वारा किया जाएगा।उप जिला कलेक्टर ने जारी आदेश में बताया कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना अक्टूबर 2013 से लागू हुई थी। योजना में भारत सरकार द्वारा वर्ष 2011 की जनगणना को आधार मानते हुए शहरी क्षेत्र में 53 एवं ग्रामीण में 69 प्रतिशत व्यक्तियों की सिलिंग निर्धारित की गई थी। सवाई माधोपुर उपखंड में निर्धारित नोर्म्स 69 प्रतिशत से अधिक होने से सूचि में शामिल सभी परिवारों को गेंहु नहीं मिल पा रहा है। कई परिवार ऐसे भी है जो अपात्र होते हुए भी इन सूचियों में सम्मिलित है। एव उनके राशनकार्ड पर गेंहु का वितरण किया जा रहा है।
इन परिवारों को योजना से निष्कासित किया जाएगा
खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग की अधिसूचना के अनुसार ग्रामीण क्षेत्र में ऐसे परिवार जिसका कोई भी एक सदस्य आयकरदाता हो, सरकारी/ अर्द्धसरकारी, स्वायत्तशासी संस्थाओं में नियमित कर्मचारी/ अधिकारी हो या ऐसे परिवार में से कोई सदस्य एक लाख रुपए से अधिक की पेंशन प्राप्त करता हो। ऐसे परिवार जिसके किसी एक सदस्य के चार पहिया वाहन हो (ट्रेक्टर एवं एक वाणिज्यिक वाहन को छोड़कर जो जीविकोपार्जन के उपयोग मे आता है), परिवार के सभी सदस्यों के स्वामित्व में कुल कृषि भूमि लघु कृषक की निर्धारित सीमा से अधिक हो। परिवार के सभी सदस्यों की कुल आय एक लाख रुपए से वार्षिक से अधिक है। इसी प्रकार ग्रामीण क्षेत्र में 2000 वर्ग फीट से अधिक स्वयं के रिहायशी का बना पक्का मकान है। ऐेसे सभी परिवार निष्कासन श्रेणियों में माने गए है। उप जिला कलेक्टर ने जारी आदेश में बताया् कि खाद्य सुरक्षा सूचियों में कई चयनित परिवारों के राशनकार्ड संदिग्ध, दोहरे एवं ऐसे राशन कार्ड जिनसे लंबे समय से खाद्य सामग्री का उठाव नहीं किया गया है। कई ग्राम पंचायत की सूचियों में कुछ उपभोक्ताओं के एक से अधिक राशनकार्ड बने हुए है। कई परिवारों के राशन कार्ड में परिवार के मृतक लोगों एवं विवाहित पुत्रियों का नाम अभी भी नहीं हटवाया गया है। इसके लिए कोर कमेटियों के माध्यम से सर्वे करवाकर खाद्य सुरक्षा सूचियों का सत्यापन करवाया जाएगा। सर्वे के अनुसार जो परिवार निष्कासन श्रेणी में आते है उनके नामों की सूचियां बनाई जाएगी। जिससे उन परिवारों को ऑनलाइन सूचियों से हटाया जा सके।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना