पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अपने साथी-रिश्तेदारों को भी वैक्सीन लगाने के लिए मनाएं:सवाई माधोपुर पूरे प्रदेश के लिए मिसाल, कोरोना वैक्सीन का जिले में वेस्टेज केवल 0.2 प्रतिशत

सवाईमाधोपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डेमो पिक - Dainik Bhaskar
डेमो पिक

कोरोना वैक्सीन का वेस्टेज रोकने में सवाई माधोपुर जिला राज्य में नम्बर एक रहा है। प्रदेश में केंद्र द्वारा अनुमत 10 प्रतिशत एवं राष्ट्रीय औसत 6 प्रतिशत की तुलना में वैक्सीन का वेस्टेज 18-44 आयु वर्ग में शून्य व 45 से अधिक आयु वर्ग में मात्र 2 प्रतिशत है।

कोरोना वैक्सीनेशन अभियान में वैक्सीन की 1 भी बूंद व्यर्थ न जाये। इसके लिए जिला कलेक्टर राजेन्द्र किशन ने जिले में एक नई पहल शुरू की जिसका परिणाम यह रहा कि जिले में वेस्टेज प्रतिशत 0.2 प्रतिशत रहा जो पूरे राज्य में न्यूनतम है। जिला कलेक्टर ने इस पहल के अन्तर्गत हैल्थ वर्कर्स को इस बात के लिए मोटिवेट किया था कि वे वैक्सीन लगवाने जाएं तो पात्र श्रेणी के परिजन, मित्र, पड़ौसी से भी चलने का आग्रह करें।

वैक्सीन वेस्टेज न्यूनतम रखने के लिए सवाईमाधोपुर में विशेष प्रयास किये गये। कई मामलों में किसी सेंटर पर बहुत कम लाभार्थी पहुंचे। समझाइश के बाद भी 10 से कम ही लोग एकत्र हो पाये तो उन्हीं लोगों को वैक्सीन लगानी पड़ी क्योंकि पात्र व्यक्ति का जल्द से जल्द टीकाकरण भी उतना ही जरूरी था जितना कि वैक्सीन की बर्बादी रोकना। कोविड-19 वैक्सीन की शीशी का उपयोग खोले जाने के मात्र चार घंटे की अवधि में ही किया जा सकता है। प्रत्येक शीशी में 10 डोज होती है एवं खोलने से निर्धारित 4 घंटे की अवधि समाप्त होने के बाद शेष डोजेज को डिस्कार्डेड माना जाता है।

खबरें और भी हैं...