चिकित्सा विभाग बेबस:साहब! मेरे पिताजी का ऑक्सीजन लेवल 64 रह गया, कुछ करो, पीएमओ... जितने संसाधन हैं उनसे चला रहे हैं काम

सवाई माधोपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सवाई माधोपुर| बेड खाली होने के इंतजार में गलियारे में कुर्सी पर बैठी महिला। - Dainik Bhaskar
सवाई माधोपुर| बेड खाली होने के इंतजार में गलियारे में कुर्सी पर बैठी महिला।
  • कोरोना वार्ड में मरीजों को न तो पर्याप्त ऑक्सीजन मिल रही है और न ही समय पर रेमडिसिवर इंजेक्शन लग रहे, मरीजों के परिजन हो रहे परेशान

साहब! मेरे पिताजी का ऑक्सीजन लेवल 64 आ रहा है। उनकी सांसे फूल रही है। प्लीज कुछ करो, कहीं से ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था करवा दो, नहीं तो वे दम तोड़ देंगे साहब। सर, मेरी मां को श्वांस लेने में परेशानी हो रही। चिकित्सक ने वार्ड में भर्ती करने के लिए बोला है, लेकिन वार्ड में संबंधित चिकित्साकर्मी भर्ती नहीं कर रहे है। बेड के अभाव में मेरी मां गलियारे में लेटी हुई है…। यह नजारा था गुरुवार को सामान्य चिकित्सालय में पीएमओ कार्यालय का। यहां करीब एक घंटे में 5 से 6 मरीजों के परिजन दिल में अपनों की बीमारी का दर्द लिए हाथ जोड़ते हुए फरियाद लेकर पहुंचे।

पीड़ित परिजनों की फरियाद सुनकर पीएमओ ने संबंधित चिकित्साकर्मियों को निर्देश भी दिए, लेकिन सीमित संसाधनों के चलते चिकित्सा स्टाफ भी बेबस और लाचार नजर आया। उनकी बेबसी के सामने मरीज भी मन मसोस कर रह गए। आखिर करें तो क्या‌? वे सरकार व सरकारी तंत्र को कोसते नजर रहे।शहर नीम चौकी निवासी महेश कुमार ने बताया कि उसके पिताजी वार्ड में पिछले कुछ दिनों से भर्ती है। उनका ऑक्सीजन लेवल 64 आ रहा है। ऐसे में सांस लेने में काफी तकलीफ हो रही है। हालांकि ऑक्सीजन लगी हुई है, लेकिन पर्याप्त प्रेशर से ऑक्सीजन नहीं मिल रही है। आदिनाथ नगर निवासी विनोद शर्मा ने बताया कि वार्ड में कोरोना मरीजों को पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं मिलने से उनकी सांसे उखड़ रही है, लेकिन कोई सुनने वाला नहीं है। संबंधित अधिकारी से फरियाद करने पर एक ही जवाब मिलता है कि जितने संसाधन है उसी से काम चलाओ।

मरीज डिस्चार्ज होने पर मिलेगा बेड आवासन मंडल निवासी कपिल शर्मा (बदला हुआ नाम) ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि उसकी मां 3 दिन से अस्पताल में भर्ती थी। वहां सांस लेने में परेशानी होने पर सामान्य चिकित्सालय ले आए। यहां आने पर पता चला की बेड खाली नहीं है। संबंधित चिकित्साधिकारी से बेड के लिए आग्रह किया, लेकिन उन्होंने भी वार्ड में भर्ती किसी मरीज के डिस्चार्ज होने तक इंतजार करने का आश्वासन दिया। ऐसे में अब क्या करें, कहां जाएं?

कोरोना वार्ड में महिला ने तोड़ा दम कोरोना वार्ड में गुरुवार को भर्ती हुई शहर निवासी मुस्लिम वर्ग की एक महिला ने चंद मिनटों में ही दम तोड़ दिया। मृतका के बेटे ने बताया कि 5-6 दिन से उसकी मां को बुखार था। सुबह सांस लेने में परेशानी होने पर अस्पताल लेकर आए, लेकिन यहां पहले तो बेड खाली नहीं था, जब बेड मिला तब तक बहुत देर हो चुकी थी और कुछ ही मिनटों में उन्होंने दम तोड़ दिया।

जितनी मरीज को जरूरत हैउतनी ऑक्सीजन दे रहें हम पीएमओ ने बताया कि ऑक्सीजन कम नहीं है, लोगों को वहम है। जिसको जितनी आवश्यकता है, उन्हें उतनी ऑक्सीजन मिल रही है। वार्ड में भर्ती मरीज को लंग्स में इंफेक्शन होने की वजह से थोड़ी बहुत परेशानी होते ही परिजन सोचते हैं कि ऑक्सीजन की कमी की वजह से परेशानी हो रही है, जबकि ऐसा नहीं है। जितनी मरीज को रिक्वायरमेंट है, उतनी ऑक्सीजन दे रहे हैं। अभी ऑक्सीजन एक-एक लीटर बहुत उपयोगी साबित हो रही है। अभी ऑक्सीजन का लेवल बढ़ाकर 4 से 6 लीटर कर भी दें तो वह हवा में जाएगी। उसका कोई उपयोग नहीं होगा।

ऑक्सीजन सप्लाई बढ़ाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं कलेक्टर रेमडिसिविर इंजेक्शन लगा दिए हैं। अभी जितने बेड हैं, उन पर मरीज भर्ती है। जैसे ही किसी मरीज की हालत में सुधार होता है, उसे डिस्चार्ज कर दूसरे मरीज को भर्ती कर रहे हैं। ऑक्सीजन के लिए बात चल रही है। कलेक्टर साहब पूरी कोशिश कर रहे हैं जयपुर से ऑक्सीजन सप्लाई बढ़ाने की।-डॉ. सुनील शर्मा, कार्यवाहक पीएमओ, सामान्य चिकित्सालय

खबरें और भी हैं...