• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Sawai madhopur
  • The Administration Forgot About Naming, Waiting For Plaques To Be Installed On The Roads For 25 Years, The Governments Changed, The Naming Plates Could Not Be Installed On The Collector's Change

25 साल से नामकरण पट्टिकाओं का इंतजार:शहर के मुख्य मार्गों का नामकरण कर भूला प्रशासन, सरकारें बदली, कलेक्टर बदले लेकिन अब तक नहीं लगी शहीदों के नाम की पट्टिकाएं

सवाई माधोपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हम्मीर ब्रिज पर लगा साइन बोर्ड। - Dainik Bhaskar
हम्मीर ब्रिज पर लगा साइन बोर्ड।

स्वाधीनता स्वर्ण जयंती समारोह के दौरान प्रशासन ने जिला मुख्यालय के विभिन्न मार्गों का नामकरण शहीदों के नाम से किए जाने का प्रस्ताव पारित किया था। प्रस्ताव के 25 साल बीत जाने के बाद भी प्रशासनिक उदासीनता के चलते इन मार्गों पर शहीदों के नाम की पट्टिकाएं नहीं लग सकी है।

स्वाधीनता दिवस की स्वर्ण जयंती वर्षगांठ मनाने के दौरान जिला कलेक्टर ने 3 जुलाई 1997 को आदेश क्रमांक प. 40/1/ सामान्य/ 97/4424 जारी किया था। जिसमें जिला मुख्यालय के विभिन्न मार्गों को स्वतंत्रता संग्राम के दौरान शहीदों के नाम रखे जाना निर्धारित किया था। कलेक्टर ने तत्कालीन नगर पालिका अधिशाषी अधिकारी को इन मार्गों पर नाम पट्टिकाएं लगवाने व इन मार्गों का शहीदों के नाम से जानने के लिए प्रचार-प्रसार के निर्देश दिए थे। लेकिन 25 साल बीत जाने के बाद भी आज तक इन मार्गों पर शहीदों के नाम की पट्टिकाएं नहीं लग पाई है।

इन मार्गों का किया था नामकरण
हम्मीर रेलवे ब्रिज से खेरदा रोड़ पुरानी चुंगी नाका तक–: असफाक उल्लाह खान मार्ग
रेलवे पुलिया से लालसोट रोड चकचैनपुरा पुरानी चुंगी नाका तक–: चन्द्रशेखर आजाद मार्ग
रेलवे पुलिया से आलनपुर चौराहा तक–: नेताजी सुभाष चन्द्र मार्ग
आलनपुर चौराहे से खंडार रोड पुरानी चुंगी नाका तक–: शहीद भगत सिंह मार्ग
हम्मीर सर्किल से त्रिनेत्र गणेश मन्दिर तक–: हम्मीर मार्ग
हम्मीर सर्किल से सर्किट हाउस होते हुए आलनपुर चौराहे तक–: शहीद कल्याण शर्मा मार्ग
पुलिस लाइन तिराहा से मैन मार्केट से होते हुए टोंक बस स्टैंड तक–: रानी लक्ष्मी बाई मार्ग
कलेक्ट्रेट से रेलवे स्टेशन सवाई माधोपुर तक–: राणा प्रताप मार्ग

स्वयंसेवी संगठन भी कर चुके हैं मांग
प्रशासनिक उदासीनता के चलते नामकरण पट्टिकाएं नहीं लगाने को लेकर स्वयंसेवी संगठन भी अपना विरोध जता चुके है। सिंपल फाउंडेशन की ओर से जिला मुख्यालय के विभिन्न मार्गों का शहीदों के नाम की पट्टिकाएं लगाने की मांग की जा चुकी है। इसी मामले में भाजपा के जिला मंत्री हरिप्रसाद गुप्ता का कहना है कि स्वतंत्रता के अमर शहीद सभी के लिए सम्मानीय है। जिन मार्गों का नामकरण जिन शहीदों के नाम पर किया गया है। उनके नाम से उस मार्ग पर पट्टिका लगनी चाहिए। जल्दी ही भाजपा की ओर प्रशासन को इस संबंध में ज्ञापन दिया जाएगा। जिसमें नामकरण पट्टिकाएं लगाने की मांग की जाएगी।

इनका कहना है
मामला पुराना है। दिखवाकर ही कुछ कह पाऊंगा। अगर ऐसा कोई आदेश पारित हुआ था तो जल्दी ही नामकरण पट्टिकाएं लगवाई जाएगी।
-डॉ. सूरज सिंह नेगी, एडीएम, सवाई माधोपुर

खबरें और भी हैं...