पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ये कैसा गुंडाराज?:अधेड़ को पीटते हुए थाने ले गई पुलिस, थाने में मौत

सवाई माधोपुर25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
भजनलाल के परिजन विलाप करते। - Dainik Bhaskar
भजनलाल के परिजन विलाप करते।
  • दो भाइयाें में जमीन का विवाद, पुलिस कस्टडी में ग्रामीण की मौत
  • परिजन: मौत बरवाड़ा में ही हुई, पुलिस ने रेफर करवाया

चौथ का बरवाड़ा जमीन को लेकर मृतक तथा उसके भाई रामकिशन मीणा से विवाद हुआ था। जिसे लेकर पीड़ित परिवार द्वारा चौथ का बरवाड़ा थाने को शुक्रवार को रिपोर्ट दी गई। रिपोर्ट दर्ज नहीं होने पर शनिवार को भी महिलाओं द्वारा रिपोर्ट दी गई।

मृतक की बड़ी बेटी राजंती मीणा का आरोप है कि मृतक के भाई के दबाव में पुलिसकर्मी उसके पिता को उठा कर थाने ले गए, जहां उसके साथ मारपीट की गई। इसमें उसकी मौत हो गई। पीड़ित परिवार का कहना है कि मृतक भजनलाल की मौत चौथ का बरवाड़ा में ही हो गई थी, लेकिन पुलिस ने अपने आप को बचाने के लिए उसे रेफर करवा दिया।

बेटी बोली- पिता ने चाचा के खिलाफ रिपोर्ट दी, पुलिस ने दर्ज नहीं की, फिर हमने केस कराया था
भजनलाल की बेटी राजंती मीणा ने कहा कि पिता ने चाचा रामकिशन के खिलाफ शुक्रवार को रिपोर्ट दी थी। दर्ज नहीं हुई तो शनिवार को भी महिलाओं ने रिपोर्ट दी थी। बेटी का आरोप है कि चाचा के इशारे पर ही पुलिस उन्हें उठाकर ले गए। पिता की मौत तो थाने में ही हो गई थी। पुलिस ने खुद को बचाने के लिए अस्पताल ले जाने का नाटक किया।

मृतक के 6 बेटियां व एक बेटा

मृतक भजनलाल की आर्थिक स्थिति कमजोर है। उसके छह बेटियां तथा एक छोटा पुत्र है। परिजनों का कहना है कि घर में कोई व्यक्ति नहीं होने के कारण मृतक का भाई उसे आए दिन जमीन के लिए परेशान करता था। इस मामले को लेकर कई बार पुलिस को रिपोर्ट भी दी गई थी, लेकिन कार्रवाई नहीं होने से फिर से उसके साथ मारपीट की गई।

घर में मातम, ग्रामीणों में आक्रोश

भजनलाल की मृत्यु से घर में में मातम छाया हुआ है। वहीं ग्रामीणों में आक्रोश भी है। ग्रामीणों का कहना है कि पुलिस की लापरवाही के चलते यह घटना घटी है। ऐसे में यदि पीड़ित परिवार को उचित न्याय नहीं मिला तो ग्रामीण इस मामले को लेकर आंदोलन करेंगे।

पूर्व विधायक ने दिया 24 घंटे का अल्टीमेटम, पूरे थाने को सस्पेंड करने सहित कई मांगे रखी

चौथ का बरवाड़ा के एकड़ा गांव के भजनलाल की मृत्यु थाने में होने को लेकर पूर्व विधायक जितेंद्र गोठवाल ने इसे पुलिस हत्या बताया है। साथ ही पुलिस अधीक्षक से बात कर पूरे थाने को सस्पेंड करने, पीड़ित परिवार को आर्थिक सहायता के साथ नौकरी देने तथा उच्च स्तरीय जांच किए जाने की बात कही है। साथ ही 24 घंटे के अंदर उक्त बातें नहीं मानने पर बड़ा आंदोलन करने की चेतावनी भी दी है।

जिले में कानून व्यवस्था काफी खराब है। यह पुलिस द्वारा की गई हत्या है। पूरे थाने को सस्पेंड किया जाए। साथ ही इस मामले को लेकर उच्च स्तरीय जांच हो तथा पीड़ित परिवार को उचित मुआवजे के साथ नौकरी दी जाए। मैंने एसपी से बात कर 24 घंटे में कार्रवाई की बात कही है। यदि ऐसा नहीं होता है तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा।

कानून व्यवस्था पटरी से उतरी, केस दर्ज हो

सवाई माधोपुर में एक दिन में हत्या की तीन वारदात इस बात का प्रमाण है कि कानून व्यवस्था पटरी से उतर चुकी है। अपराध चरम पर होने के बावजूद सरकार नींद से नहीं जाग रही। मेरी मांग है कि चौथ का बरवाड़ा के भजनलाल मीणा को टॉर्चर करने वाले पुलिसकर्मी के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर सख्त कार्रवाई करनी चाहिए। सूरवाल के महेंद्र मीणा और चौथ का बरवाड़ा के शंकर गुर्जर के हत्यारे भी शीघ्र गिरफ्तार हो।-डॉ. किरोड़ी लाल मीना, राज्यसभा सांसद

एसपी साहब! यह हत्या है...

थाने में चोट लगी तो पहले स. माधोपुर फिर जयपुर दौड़ाया, रास्ते में दम तोड़ा

एसपी सुधीर कुमार चौधरी ने बरवाड़ा थाने में मीडिया को बताया- मामला जमीन विवाद तथा आपसी रंजिश का था, लेकिन भजनलाल मीणा की मौत पुलिस कस्टडी में हुई। पुलिस शनिवार को भजनलाल को थाने लाई थी। यहां उसके सिर में चोट आ गई। उसे पहले स्वास्थ्य केंद्र और बाद में सवाई माधोपुर तथा जयपुर रेफर किया गया। जयपुर ले जाते समय रास्ते में उसकी मौत हो गई। एसपी ने पहले कहा कि दोषियों के खिलाफ मानवाधिकार आयोग की रिपोर्ट के अनुसार कार्रवाई की जाएगी। हालांकि, देर रात तीन पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया। अन्य की भी भूमिका की भी जांच की जा रही है।

खबरें और भी हैं...