चंबल हादसा: ऐन वक्त पर कार से उतरे, बची जान:ताऊ नहीं जा सके थे बारात में, दूल्हे के पिता ने कहा- इसमें जगह नहीं, बस से आ जाना

सवाई माधोपुर9 महीने पहले
दूल्हे का ताऊ विष्णु हरिजन। हादसे में दूल्हे के जीजा शुभम की भी मौत हो गई।

कोटा के नयापुरा में चंबल नदी में कार के गिरने से दूल्हे सहित 9 लोगों की मौत हो गई। हादसे में कार में सवार एक भी व्यक्ति जिंदा नहीं बच सका। दुर्घटना की जानकारी जब चौथ का बरवाड़ा में दूल्हे के ताऊ विष्णु को मिली तो वे शॉक्ड हो गए।

क्योंकि जब बारात सुबह 3 बजे चौथ का बरवाड़ा से रवाना हो रही थी, तब वे भी उसी कार में बैठे थे। लेकिन दूल्हे अविनाश के पिता किशन गोपाल ने विष्णु से कहा कि आप बस में आ जाना। लेकिन वे किसी कारणवश बारात में नहीं जा सके। दूल्हे के ताऊ विष्णु का कहना है कि परिवार की खुशियां अचानक मातम में बदल जाएंगी, उन्हें यकीन नहीं हा रहा है। वे किसी तरह परिवार को संभालने का प्रयास कर रहें हैं।

बेटों व दामाद की मौत से मचा कोहराम
किशन गोपाल के चार बेटे हैं। बड़े बेटों केशव व कपिल की शादी नहीं हुई है। अविनाश तीसरे नंबर का बेटा है जिसकी शादी थी। इससे छोटा एक और भाई सचिन है। अविनाश की बारात तीन दिन कार्यक्रम करने के बाद रविवार को उज्जैन जा रही थी। बारात में जाते समय कार के चंबल नदी में गिर जाने की केशव व अविनाश की मौत हो गई है। इसी कार में किशन गोपाल का दामाद शुभम भी था। जिसकी भी मौत इस दर्दनाक हादसे में हो गई। दुर्घटना में किशन गोपाल का पूरा परिवार ही खत्म हो गया है।

तीन महीने पहले हुई थी बेटी की शादी
हादसे में मारे गए जयपुर के शुभम की शादी किशन गोपाल की बेटी से नेहा से बीते वर्ष नवंबर में हुई थी। जयपुर से यहां दोनों शादी में शरीक होने आए थे। नेहा की जान बस में सवार होने के कारण बच गई, लेकिन पति शुभम की मौत हो गई। हादसे में कार के चालक इस्लाम मोहम्मद व दूल्हे के पांच अन्य रिश्तेदारों की भी मौत हुई है।

चंबल हादसे की दर्दभरी कहानी:एक ही दिन थी 3 बहनों की शादी, लेकिन सबसे छोटी बहन के दूल्हे ने जान गंवा दी; मातम में बदली खुशियां