पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गणेशजी मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़:त्रिनेत्र गणेशजी के उमड़ी श्रद्धा की भीड़, गणेशधाम पर वाहनों को रोका, पैदल तय की 10 किमी दूरी

सवाई माधोपुर17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सवाई माधोपुर| त्रिनेत्र गणेशजी के मंदिर के बाहर लगी श्रद्धालुओं की कतार। - Dainik Bhaskar
सवाई माधोपुर| त्रिनेत्र गणेशजी के मंदिर के बाहर लगी श्रद्धालुओं की कतार।

रणथंभौर दुर्ग स्थित त्रिनेत्र गणेशजी मंदिर में बुधवार को श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। बुधवार को गणेशजी का वार होने के कारण सुबह से ही मंदिर में श्रद्धालुओं के आने का सिलसिला शुरू हो गया, जो दोपहर बाद तक जारी रहा। मंदिर परिसर में सभी ने बारी-बारी से त्रिनेत्र गणेशजी के दर्शन किए और मनौतियां मांगी। पिछले बुधवार को भीड़ होने से मंदिर जाने वाले रणथंभौर दुर्ग के मार्ग पर बार-बार जाम लगता रहा था। इससे सबक लेते हुए गणेशधाम पुलिस चौकी के जवानों ने श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए ही सभी दुपहिया और चौपहिया वाहनों को गणेशधाम पर ही रोक दिया।

इसके बाद श्रद्धालु पैदल ने पैदल ही करीब 10 किलोमीटर की दूर तय कर गणेशजी के दर्शन किए। वहीं दूसरी ओर मंदिर में दर्शनों के लिए भीड़ होने से कोरोना गाइडलाइन धरी की धरी रह गई। ना तो वहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो रहा था और ना ही सभी ने मास्क लगा रखा था।बुधवार को गणेशजी का वार होने के कारण सुबह 5 बजे से ही श्रद्धालु त्रिनेत्र गणेशजी मंदिर पहुंचना शुरू हो गए। इसके बाद जैसे-जैसे समय बीतता गया तो श्रद्धालुओं की संख्या में बढ़ोत्तरी होने लगी। सुबह करीब 9 बजे से ग्रामीण क्षेत्रों तथा अन्य स्थानों के श्रद्धालु अपने वाहनों से गणेशजी पहुंचने लगे। पिछले बुधवार को भीड़ तथा वाहनों की अधिकता होने से रणथंभौर दुर्ग जाने वाले मार्ग में बार-बार जाम लग गया था। लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ।

गणेशधाम पुलिस चौकी के जवानों ने सभी दुपहिया और चौपहिया वाहनों को गणेशधाम पर ही रोक दिया।इसके बाद सभी श्रद्धालुओं ने करीब 7 किलोमीटर रणथंभौर दुर्ग तक और इसके बाद 3 किलोमीटर दुर्ग से त्रिनेत्र गणेश मंदिर तक कुल लगभग 10 किलोमीटर तक की दूरी पैदल ही तय की। इस मार्ग पर कुछ जीपें जरूर संचालित हो रही थी, जिन पर भी श्रद्धालु की भीड़ देखी गई। दोपहर करीब 12 बजे तक मंदिर में स्थिति यह थी कि मंदिर के बाहर तक श्रद्धालुओं की कतारें लग गई।

इस बीच गणेशजी के जयकारे माहौल को भक्तिमय बना रहे थे। बारी-बारी से भी श्रद्धालुओं ने त्रिनेत्र गणेशजी के दर्शन किए और मनौतियां मांगी। कोरोना के कारण फूल-माला तथा प्रसाद को मंदिर के अंदर नहीं ले जाने दिया गया।दोपहर बाद तक श्रद्धालुओं द्वारा मंदिर में दर्शन करने का सिलसिला जारी रहा। गौरतलब है कि हर बुधवार को त्रिनेत्र गणेशजी के हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है, लेकिन व्यवस्थाएं सही नहीं होने से उन्हें हर बार परेशानी उठानी पड़ती है।

खबरें और भी हैं...