पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

घटते कारोना मरीजों के आंकडों से बेपरवाह लोग:जिला अस्पताल में लगने लगी कतारें, हो रहा है सोशल डिस्टेंसिंग का धड़ल्ले से उल्लंघन

सवाई माधोपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला अस्पताल की ओपीडी के बाहर जमा भीड़। - Dainik Bhaskar
जिला अस्पताल की ओपीडी के बाहर जमा भीड़।

सवाई माधोपुर में कोरोना के मामले घटने के साथ ही लोगों में अब कोरोना का खौफ कम होने लगा है। जिला अस्पताल में जहां एक ओर कोरोना वार्ड खाली हैं वहीं दूसरी ओर अन्य मरीजों की ओपीडी में संख्या बढ़ने लगी है। जिला अस्पताल में आने वाले मरीजों की ओर से लापरवाही बरती जा रही है। जिला अस्पताल में मरीजों द्वारा बरती जाने वाली लापरवाही आने वाले समय में फिर से जिले में कोरोना संक्रमितों की संख्या को बढ़ा सकती है।

जिले के सबसे बड़े अस्पताल में प्रशासन की अनदेखी व लोगों की लापरवाही से आने वाले समय में हालात खतरनाक हो सकते हैं। जिला अस्पताल में ओपीडी, एक्स-रे, दवा वितरण केंद्र समेत सभी जगहों पर लोगों की भीड़ कोरोना गाइडलाइन और सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन करती हुई दिखाई पड़ती है। अस्पताल का आलम यह है कि यहां डॉक्टरों को दिखाने वाले मरीजों की लंबी कतार है। इस कतार में कहीं भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन दिखाई नहीं पड़ता है।

ओपीडी की कतार में सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन
ओपीडी की कतार में सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन

डाक्टरों की ओर से बार बार मरीजों को सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए कहने पर भी मरीजों द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करना चिन्ता का विषय है। अस्पताल प्रशासन की ओर से जिला अस्पताल में इन जगहों पर सुरक्षा गार्ड की नियुक्ति दिखाई नहीं पड़ती है। जिससे यहां आने वाले मरीजों द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग के उल्लंघन किया जा रहा है।

जिला अस्पताल के दवा वितरण केन्द्र पर सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन
जिला अस्पताल के दवा वितरण केन्द्र पर सोशल डिस्टेंसिंग का उल्लंघन

सुरक्षा गार्डों की है जिला अस्पताल में कमी

जिला अस्पताल जिले का सबसे बड़ा अस्पताल है। यहां जिले भर के मरीजों का जमावड़ा लगा रहता है। मरीजों का ज्यादा भार होने के कारण आने वाले मरीजों की संख्या के अनुपात में सुरक्षा गार्डों की संख्या बहुत कम है। अस्पताल में फिलहाल 12 सुरक्षा गार्ड नियुक्त हैं। ऐसे में सुरक्षा गार्ड हर समय हर जगह मौजूद नहीं रह पाते हैं जिससे यह समस्या बनी हुई है। अगर जिला अस्पताल में सुरक्षा गार्डों की संख्या में इजाफा हो तो जिला अस्पताल में सोशल डिस्टेंसिंग व कोरोना गाइडलाइन का पालन कराया जा सके।

खबरें और भी हैं...