पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पेयजल संकट - प्रदर्शन:खंडार में 72 घंटे के बाद भी नहीं मिल रहा पानी, ग्रामीणों ने प्रशासन के खिलाफ किया प्रदर्शन

सवाई माधोपुर25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
खंडार| कस्बे के गणगौरी मौहल्ले में पेयजल के लिए प्रदर्शन करती महिलाएं। - Dainik Bhaskar
खंडार| कस्बे के गणगौरी मौहल्ले में पेयजल के लिए प्रदर्शन करती महिलाएं।
  • ग्रामीणों में जलदाय विभाग के साथ साथ प्रशासन खिलाफ भी रोष

उपखंड मुख्यालय पर इन दिनों पेयजल के लिए चारों तरफ त्राहि त्राहि मची हुई है। हालात यह है कि लोग अल सुबह से देर शाम तक पेयजल की तलाश में दूरदराज के स्थानों पर भटकने को मजबूर है। दूसरी ओर जलदाय विभाग द्वारा कई बार शिकायतों के बाद भी ग्रामीणों की इस विकट समस्या पर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जिससे ग्रामीणों में जलदाय विभाग के साथ साथ प्रशासन और सरकार के खिलाफ भी भारी रोष व्याप्त है।72 घंटे के अंतराल में भी नहीं मिल रहा पर्याप्त पेयजलग्रामीणों ने बताया कि इस भीषण गर्मी के दौर में जलदाय अफसरों की अंधेरगर्दी के चलते कस्बे की पेयजल व्यवस्था इस कदर बिगड़ी हुई है, कि लोगों को 72 घंटे के अंतराल में भी पर्याप्त पेयजल नहीं मिल पा रहा है।

वहीं कई मौहल्लों में तो स्थिति इतनी खराब है कि वहां लोगों को नलों से पानी के दर्शन किए ही हफ्ते बीत गए हैं। इतना ही नहीं कई मौहल्लों में गंदे पानी की शिकायतें भी सामने आ रही हैं। इसके बाद भी जलदाय विभाग के अधिकारी आमजन की इस मूलभूत आवश्यकता के प्रति गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं।इन मोहल्लों में पेयजलकी स्थिति खराबग्रामीणों ने बताया कि कस्बे की छापर कॉलोनी, बालेर रोड़, खारा कुआं मौहल्ला, बानीपुरा बस्ती, बाबाजी के कुएं के पास वाले मौहल्ले, बस्सी मौहल्ला, माली मौहल्ला, गणगौरी मौहल्ला, कहार मौहल्ला, सैन मौहल्ला, जैन मंदिर बस्ती, बौलीवालों का मौहल्ला, चौधरी मौहल्ला, श्रीजी मंदिर के पास वाले मौहल्ले, रामलीला मैदान, मीणा मौहल्ला, कुंडवाला मौहल्ला, हरदेनिया मौहल्ला,सोनी मौहल्ला सहित अधिकतर मौहल्लों में पेयजल की स्थिति बेहद खराब है।अधिकारी फोन परदेते हैं अभद्र जवाबकेशव, नीरज, भरत सिंह, सपना, मोहिनी सहित कई ग्रामीणों ने बताया कि कस्बे में लंबे समय से व्याप्त पेयजल समस्या के लिए जब भी जलदाय अधिकारियों को फोन करते है तो वह उनसे अभद्रता से पेश आते है।

यहां कार्यरत सहायक अभियंता तो महीने में एक दो बार आकर ही अपने कर्तव्यों की इतिश्री कर रहे है। वहीं कनिष्ठ अभियंता समस्या सुनने को ही तैयार नहीं है। इस बारे में मुख्यमंत्री हेल्पलाइन सहित प्रशासन को भी अवगत करवाया जा चुका है, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही है।विकास मीणा सहायक अभियंता जलदाय विभाग खंडार का कहना है कि नायपुर मार्ग पर विभाग की एक मोटर खराब हो गई थी, जिससे कस्बे में पेयजल की समस्या उत्पन्न हुई। अब मोटर को सही करवा दिया है।

महिलाओं की दिनचर्चा प्रभावित कस्बावासियों ने बताया कि जलदाय विभाग के अधिकारियों की अनदेखी का सबसे ज्यादा खामियाजा कस्बे की महिलाओं को भुगतना पड़ रहा है। घरों में पेयजल किल्लत और कस्बे में पानी की तलाश के चलते महिलाएं अपने घरेलू कार्यों को भी समय पर नहीं निपटा पा रही है। स्थिति यह है कि महिलाओं की सबसे पहली प्राथमिकता इन दिनों घर में पानी का जुगाड़ करना बनी हुई है। यही कारण है कि कस्बे में महिलाएं अल सुबह से देर शाम तक दूरदराज के स्थानों से पानी भरकर लाती नजर आ रही है। इतना ही नहीं भीषण गर्मी व तेज धूप के बीच कई छोटे बच्चे भी महिलाओं की मदद करते नजर आ रहे है।

खबरें और भी हैं...