पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जंगलों में जल स्रोत सूखे:बालेर रेंज के जंगलों में जल स्रोत सूखे, वन्यजीवों का रुख गांवों की ओर

सवाई माधोपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बालेर इन दिनों लगातार पारा बढ़ने से जहां एक और लोग गर्मी से त्रस्त है। वही रणथंभौर अभयारण्य की बालेर रेंज के जंगलों में जहां जहां वन्यजीव प्यास बुझाने पहुंचते है वे प्राकृतिक जल स्त्रोत उन्हें निराश लौटा रहे हैं। ऐसे में वन्यजीव अब जंगलों से निकल कर प्यास बुझाने के लिए अपना रुख गांवों की और करते दिखाई दे रहे हैं। सभी प्राकृतिक जल स्त्रोत सूख जाने से वन्यजीवों के सामने हलक तर करने का संकट मंडरा रहा है।जंगलों में प्राकृतिक जल स्त्रोत सूख जाने से वन्यजीवों का रुख गांवों की और होने से वन्यजीवों की जान को भी खतरा बना हुआ है। कई बार छोटे वन्यजीवों पर कुत्तों का हमला भी गांवों में होता है।जिससे घायल वन्यजीव मौत के मुंह में भी चले जाते हैं। इन दिनों बालेर रेंज के सभी जल स्त्रोत रीते पड़े हुए हैं।

अफसरों की बाट जोहरहे हैं वाटर हॉल रणथंभौर अभयारण्य की बालेर रेंज में वन्यजीवों की प्यास बुझाने के लिए मुख्यतया चितारा के हनुमानजी का तालाब, भेरूजी की तलाई, कैलादेवी अभयारण्य की सीमा पर स्थित तालाब, सास बहू की तलाई, गुर्जर तालाब, भैंरूजी का झरना,पन्ना के खाल के पास प्लांटेशन का एनीकट,सहित गर्मी में वन्यजीवों के हलक तर करने वाले वाटर हॉल विभागीय अधिकारियों की बाट जोह रहे है। की कब इनमें टैंकरों से पानी पहुंचे और वन्य जीव अपना हलक तर कर पाए।उच्चाधिकारियों से बात करेंगे^ बालेर रेंज में वन्यजीवों के लिए जल्द ही उच्चाधिकारियों से बात कर पानी की व्यवस्था करवाएंगे।-चौथमल वर्मा, फोरेस्टर रेंज चौकी बालेर

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत होगा। जिससे आपकी विचार शैली में नयापन आएगा। दूसरों की मदद करने से आत्मिक खुशी महसूस होगी। तथा व्यक्तिगत कार्य भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझते जाएंगे। नेगेट...

    और पढ़ें