टोल कार्मिक दूसरे दिन भी रहे धरने पर:3 महीने पुराना भुगतान करने की मांग, अनुबंध खत्म होने के बाद रोक लिए थे वेतन; पूर्व कर्मचारी बोले- घर चलाना भी मुश्किल

शाहपुरा18 दिन पहले

मनोहरपुरा टोल प्लाजा पर पहले कार्यरत माइक्रोन कंपनी में कार्य करने वाले कर्मचारियों का 4 महीने का करीब 2 करोड़ रुपए का बकाया भुगतान आश्वासन के 3 दिन बाद भी नहीं होने से नाराज कर्मचारी रविवार दूसरे दिन भी धरने पर रहे। एनएचएआई के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर कर्मचारियों का बकाया वेतन दिलाने की मांग की।

जानकारी के अनुसार मनोहरपुर टोल प्लाजा का संचालन का कार्य एनएचएआई ने पीसीपीएल कंपनी के मार्फत माइक्रो कंपनी को दे रखा था। एनएचएआई से माइक्रो कंपनी का अनुबंध पूरा होने के बाद कर्मचारियों का 4 महीने का करीब 2 करोड़ रुपए बकाया चल रहा था। जिसका भुगतान कंपनी की ओर से नहीं किया गया और 3 जून को एनएचएआई ने टोल संचालन का कार्य दूसरी कंपनी को दे दिया। टोल पर कार्यरत कर्मचारियों को बकाया भुगतान दिए बिना ही हटा दिया। जिससे नाराज कर्मचारियों ने नई कंपनी के कार्य ग्रहण के दौरान विरोध किया था।

तब एसडीएम मनमोहन मीणा, थाना प्रभारी मनीष शर्मा, तहसीलदार महेश ओला, डीएसपी सुरेंद्र कृष्णया के समक्ष एनएचएआई पीडी अजय आर्य ने एक माह में बकाया भुगतान करवाने का आश्वासन दिया था। लेकिन 2 माह का समय बित जाने के बाद भी कर्मचारियों को वेतन का भुगतान नहीं किया गया। जिससे नाराज कर्मचारियों ने सोमवार को टोल पर धरना शुरू कर दिया था।

जिस पर पुलिस उपाधीक्षक शाहपुरा सुरेंद्र कृष्णा ने धरना स्थल पर आकर 12 सितंबर को सभी कर्मचारियों को तीन दिवस में भुगतान करवाने का आश्वासन दिया था। लेकिन 3 दिन का समय गुजरने के बाद भी कर्मचारियों का भुगतान नहीं किया गया। जिससे नाराज कर्मचारी शुक्रवार को एक बार फिर टोल प्लाजा पर पहुंचकर विरोध प्रदर्शन करने लगे और धरने पर बैठ गए।

ये रहे मौजूद इस दौरान सूर्यकांत गुर्जर, अशोक व्यास, उपेंद्र आत्रेय, हंसराज घागल,आसाराम गुर्जर, रामस्वरूप कसाना, रोहिताश कसाना, तोशीब खान, जाहिद खान, रोहिताश गढ़वाल, रामकुमार कुमार जाट ,विजय कुमार जाट, मुकेश यादव, हेमराज गुर्जर,रोहित अग्रवाल, कैलाश यादव,ओमप्रकाश रोलानिया, योगेंद्र सिंह, महेश गुर्जर सहित कई लोह मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...