टूटी जिंदगी की डोर:बहलोड गांव में खेत से घर लौट रहे बालक की कटी पतंग उठाने के दौरान बिजली करंट लगने से मौत

शाहपुरा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ग्रामीण विरोध प्रदर्शन करते हुए। - Dainik Bhaskar
ग्रामीण विरोध प्रदर्शन करते हुए।

क्षेत्र के बहलोड गांव में शुक्रवार को खेत से घर लौट रहे 11 वर्षीय बालक की पतंग उठाने के दौरान बिजली करंट लगने से मौत हो गई। हादसे की खबर लगते ही घर में मकर संक्रांति पर्व की खुशियां गम में बदल गई। ग्रामीणों ने हादसे में बिजली निगम पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए विरोध प्रदर्शन किया।

सरपंच सुदामा गुर्जर ने बताया बहलोड निवासी अभिषेक उर्फ जीतू (11) पुत्र रामकरण योगी शुक्रवार को अपने खेत से घर लौट रहा था। बहलोड बस स्टैंड के समीप एलटी लाइन का तार टूटकर जमीन पर पड़ा था। टूटा हुआ तार पास से गुजर रही 11 केवी के लाइन से टच हो रहा था, जिससे उसमें भी करंट था।

तभी पतंगबाजी के दौरान एक पतंग कट कर वहां आकर गिर गई। अभिषेक जैसे ही पतंग को उठाने के लिए नीचे झुका तो उसे करंट लग गया। वह गंभीर रूप से झुलस गया। उसे तुरंत चंदवाजी के निम्स अस्पताल के लिए भेजा गया लेकिन हालत गंभीर होने की वजह से बालक ने बीच रास्ते में ही दम तोड़ दिया।

मृतक का फाइल फोटो
मृतक का फाइल फोटो

चिकित्सकों ने पोस्टमार्टम कर शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया। ग्रामीणों ने विरोध जताकर लाइनमैन को सस्पेंड करने की मांग की। सूचना मिलने जेईएन सुनील कुमार चेची मौके पर पहुंचे और ग्रामीणों की समस्या सुनी। जेईएन ने मदद के लिए विभागीय कार्रवाई करने व बिजली लाइन को मौके पर ही ठीक करवाकर मामला शांत करवाया।

रायसर के जेईएन सुनिल कुमार चैची का कहना है कि निगम की कोई गलती नहीं है। मैंने मौके पर जाकर पूरी जानकारी ली है। पेड़ के पास से 11 हजार केवी की लाइन गुजर रही है, लेकिन उसके पास से एक और एलटी लाइन गुजर रही है। जिसका तार टूटा हुआ था। उसी से बालक को करंट लग गया।

खबरें और भी हैं...