पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

7 वोट पर सिमटी भाजपा:सिकराय में लगातार चौथी बार कांग्रेस की महिला प्रधान बनीं कमला मीना, 7 वोट पर सिमटी भाजपा

सिकराय19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सिकराय| नवनिर्वाचित प्रधान कमला मीना को माला पहनाते कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष एवं पति शिवराम मीना। - Dainik Bhaskar
सिकराय| नवनिर्वाचित प्रधान कमला मीना को माला पहनाते कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष एवं पति शिवराम मीना।

पंचायत समिति में हुए प्रधान पद के चुनाव में कांग्रेस ने चौथी बार अपना प्रधान बैठाया है। भाजपा निर्दलीयों को शामिल करने के बाद भी कुल 7 वोट ही प्राप्त कर सकी। जबकि कांग्रेस उम्मीदवार कमला मीना ने 14 वोट प्राप्त कर जीत हासिल की। नवनिर्वाचित प्रधान ने कांग्रेस के खाते में पिछले 15 साल से चली आ रही सफलता की कड़ी में पांच साल ओर बढ़ा दिए। प्रधान चुनाव को लेकर पंचायत समिति सभागार में कांग्रेस की दावेदार कमला मीना एवं भाजपा से शशि कंवर ने नामांकन दाखिल किए। अपराह्न 3 बजे से शुरू हुए मतदान के दौरान पंचायत समिति सदस्यों को दोनों पार्टियों ने अलग-अलग रास्तों से एक साथ मतदान के लिए लाया गया।

करीब एक घंटे चली मतदान प्रक्रिया के बाद रिटर्निंग अधिकारी रणजीत सिंह गोदारा ने मतगणना शुरू कर सभी सदस्यों की मौजूदगी में परिणाम घोषित किए। बताया कि कांग्रेस उम्मीदवार कमला को 14 एवं भाजपा की शशि को 7 मत प्राप्त हुए। परिणाम घोषणा के बाद रिटर्निंग अधिकारी ने नवनिर्वाचित कांग्रेस प्रधान को प्रमाण पत्र सौंपकर बधाई दी।

इधर पंचायत समिति में लगातार कांग्रेस की महिला प्रधान बैठने से पार्टी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं में खुशी की लहर दौड़ गई। उन्होंने नवनिर्वाचित प्रधान का माला पहनाकर स्वागत किया। गौरतलब है कि शनिवार को घोषित चुनाव नतीजों में कांग्रेस को 12, भाजपा को 5 एवं 4 वार्डों में निर्दलीय उम्मीदवारों को जीत मिली थी। इनमें से 14 कांग्रेस के पक्ष में तो शेष 7 सदस्यों ने भाजपा के पक्ष में मतदान किया।शादी के बाद यह दूसरा मौका था, जब कांग्रेस ब्लॉक अध्यक्ष शिवराम मीना एवं नवनिर्वाचित प्रधान कमला मीना ने एक-दूसरे को माला पहनाकर जीत की बधाई दी। हुआ यूं कि ब्लॉक अध्यक्ष एवं प्रधान दोनों रिश्ते में पति-पत्नी हैं। जीत की खुशी को दोगुनी करने के लिए सभागार में ही दोनों पति-पत्नी ने एक-दूसरे को माला पहनाकर सभी को साथ लेकर विकास के नए आयाम स्थापित करने का आह्वान किया।

दोनों ने शादी के बाद पहली बार पहनाई माला के नजारे को देख सभागार तालियों से गूंज उठा। अधिकारियों ने भी दोनों को बधाई दी।भाजपा के खाते में उपप्रधानी भी नहींप्रधान चुनाव में मतदान के बाद कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारी अपने खेमे में शामिल सदस्यों को पुनः अपने साथ बाड़ाबंदी में ले गए जिन्हें मंगलवार को होने वाले उप प्रधान चुनाव के बाद ही घर जाने दिया जाएगा। पार्टी में उप प्रधान का दावेदार तय करने के लिए मंत्रणा चल रही है। लेकिन मानपुर से चुनाव जीती इंद्रा जोशी को सिंबल दिए जाने की प्रबल संभावनाएं हैं। इसलिए उपप्रधान चुनाव में भी कांग्रेस को ही सफलता की पूरी उम्मीद है। भाजपा के खाते से उपप्रधानी का पद भी जा सकता है।सिकराय उपखंड की दोनों पंचायत समितियों में कांग्रेस प्रधान बिठाने में क्षेत्रीय विधायक एवं राज्य मंत्री ममता भूपेश की रणनीति काम कर गई। मंत्री ने चुनाव के दौरान स्वयं प्रचार की कमान संभालकर एवं जयपुर के सरकारी आवास के स्थान पर दौसा से ही पूरे विधानसभा क्षेत्र में पार्टी के उम्मीदवारों की जीत के लिए प्रयास किए।

इसके परिणामस्वरूप दोनों ही पंचायत समिति में पार्टी को स्पष्ट बहुमत के साथ जीत मिली। जबकि भाजपा के कई सांसद, पूर्व मंत्री एवं बड़े पदाधिकारी भी प्रचार में कूदने के बावजूद एक जगह भी पार्टी का बोर्ड नहीं बना पाए।मूलचंद बोहरा के 33 साल बाद कमला बनीं दूसरी प्रधानकस्बा निवासी कमला मीना के प्रधान बनने के बाद 33 साल बाद दूसरा मौका आया है, जब स्थानीय को पंचायत समिति में प्रधान कुर्सी नसीब हुई है। इनसे पहले कस्बे के ही मूलचंद बोहरा ने 28 साल लगातार प्रधानी कर इतिहास बनाया था। दूसरी बार प्रधान बनने से कस्बे के लोगों में खुशी का माहौल है। स्थानीय प्रधान बनने से कस्बे की समस्याओं एवं मुख्य मांगों के भी समाधान की उम्मीद जगी है।

खबरें और भी हैं...