आयुर्वेद से इसका इलाज संभव / कोविड-19 से डरें नहीं बल्कि सतर्क रहें, आयुर्वेद से इसका इलाज संभव

X

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

सूरौठ. आयुर्वेद विभाग के पूर्व अतिरिक्त निदेशक डॉ घनश्याम व्यास ने कहां है कि लोग कोरोना वायरस से डरे नहीं बल्कि सतर्क रहें। आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति से कोरोना संक्रमण को पूरी तरह रोका जा सकता है। पूर्व अतिरिक्त निदेशक डॉ व्यास ने भास्कर संवाददाता से विशेष बातचीत में कहा कि आयुर्वेद जड़ी बूटियों से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर कोरोना वायरस के संक्रमण को रोका जा सकता है। उन्होंने बताया कि गिलोय, अश्वगंधा, तुलसी, सौंठ, लोंग, काली मिर्च, दालचीनी को मिलाकर तैयार किए जाने वाला आयुर्वेदिक काढ़ा कोरोना के इलाज में कारगर अस्त्र साबित हो रहा है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा कर यह काढ़ा न सिर्फ अधिकतर लोगों को बचा रहा है, बल्कि संक्रमित रोगियों की प्राण रक्षा करने में भी रामबाण सिद्ध हो रहा है। दिन में एक से दो बार काढ़ा पीकर करोड़ों लोग कोरोना वायरस को मात दे रहे हैं।तुलसी में एंटीबैक्टीरियल तत्व होते हैं। उन्होंने बताया कि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में आयुर्वेद औषधि युक्त काढ़ा रामबाण का कार्य करता है। पूर्व अतिरिक्त निदेशक व्यास ने बताया कि संक्रमण काल में लोग नियमित 30 मिनट से 60 मिनट तक योग करें ।योग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में पूर्ण सहायक है। नियमित दिन में दो से तीन बार गुनगुना पानी पिए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना