आश्वासन:सांसद डॉ.मीणा ने पुरानी पेंशन बहाली का मुद्दा संसद में उठाने का दिया आश्वासन

टोडाभीमएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शिक्षक संघ एलीमेंट्री सैकेंडरी टीचर एसोसिएशन (रेसटा) के प्रदेशाध्यक्ष मोहर सिंह सलावद व राष्ट्रीय शिक्षक संघ के जिला अध्यक्ष गोविन्ददेव मीना ने बताया की वर्तमान में 2004 के बाद राज्य सेवा में आए कार्मिकों को पुरानी पेंशन की जगह एनपीएस का लाभ दिया जा रहा है जिसमे कार्मिकों का भविष्य अंधकार में है । क्योंकि एनपीएस में कर्मचारियों के पैसों को जबरदस्ती निजी कंपनियों में लगाया जा रहा है जिसका पूरे देश में विरोध हों रहा है। कर्मचारी सेवानिवृत्त के बाद फिर से बेरोजगार हो रहे है क्योंकि एनपीएस योजना में 2 हजार पेंशन बन रही है जो कर्मचारियों के हित में नहीं है। देश के प्रधानमंत्री एक देश एक विधान की बात करते है तो एक देश एक पेंशन पर भी विचार करना चाहिए।

2004 के बाद राजकीय सेवा में आए कार्मिक एनपीएस में शामिल है जबकि एमपी,एमएलए पुरानी पेंशन योजना का लाभ लें रहे है। जब पुरानी पेंशन योजना लागू करने की मांग को लेकर पूरे भारत में आन्दोलन किया जा रहा है। इसलिए पुरानी पेंशन योजना लागू होनी चाहिए। पूर्व मंत्री व राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा ने 2004 के बाद राज्य सेवा में आए कर्मचारियों के दर्द को समझा और एनपीएस की जगह पुरानी पेंशन बहाली का समर्थन किया और इस मांग को लेकर राज्य सभा में ये मुद्दा उठाने के लिए आश्वस्त किया है। मीणा के सदन मांग उठाने का आश्वाशन देने से राज्य के लाखों कार्मिकों की उम्मीदें जगी है क्योंकी मीणा जो भी मांग उठाते है उसे पूरा भीं करवाते है।

खबरें और भी हैं...