• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Tonk
  • 50 Thousand Farmers Will Have A Loss Of 14 Billion, Irrigation Is Done In One Lakh Hectares Of Land Legally And Illegally From The Dam, Farmers Will Sow Less Water Instead Of Mustard

बीसलपुर बांध से नहीं मिलेगा सिंचाई का पानी:50 हजार किसानों को होगा 14 अरब का नुकसान, बांध से सिंचाई होने वाली 1 लाख हेक्टेयर जमीन पड़त रहने के आसार

टोंक20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बीसलपुर बांध। - Dainik Bhaskar
बीसलपुर बांध।

राजस्थान से अब मानसून विदाई ले चुका है और आज की स्थिति में बीसलपुर बांध समेत अन्य जिले के सिंचाई के स्रोत एवरेज 45 प्रतिशत से ज्यादा खाली रह गए हैं। इसी के साथ पेयजल और सिंचाई के लिए सबसे बड़ा जल स्रोत बीसलपुर बांध से इस साल भी फसलों की सिंचाई के लिए नहरों में पानी छोड़ा जाएगा। इस बारिश में अभी तक पेयजल के लिए ही पानी पूरा नहीं आया है। यह बांध अभी तक 49 प्रतिशत भरा है। वहीं अन्य जल स्रोत करीब 62 प्रतिशत ही भरे हैं।

जिले में बीसलपुर बांध समेत सिंचाई के लिए 34 बांध और बड़े तालाब हैं। बीसलपुर बांध को छोड़कर अन्य जल स्रोतों में करीब 62 प्रतिशत पानी की आवक हुई है। वहीं, बीसलपुर बांध में 49 प्रतिशत पानी भरा है। अब इनमें ज्यादा पानी आने की गुंजाइश नहीं बची है। अब मानसून राजस्थान से विदा हो चुका हैं, इसकी इसकी पुष्टि अधिकारिक तौर पर भी के दी गई है। ऐसे में इस साल भी सिंचाई का सबसे बड़ा स्रोत बीसलपुर बांध से फसलों के लिए सिंचाई के लिए किसानों को पानी नहीं मिलेगा। इसके चलते बीसलपुर बांध पर सिंचाई के पानी के लिए निर्भर करीब 1 लाख हेक्टेयर जमीन पर किसान सरसों की बोआई नहीं कर पाएंगे। इसकी जगह किसान तारा - मीरा जैसी अन्य कम भाव और कम पानी की जरूरत वाली फसल की बोआई करेंगे। इसके अलावा हजारों बीघा जमीन पड़त ही रहने के आसार लग रहा है।

14 अरब रुपए का नुकसान
जिले में बीसलपुर बांध की नहरों से आधिकारिक रूप से 81 हजार 500 हेक्टेयर में रबी फसलों की सिंचाई होती है। करीब 18 से 20 हजार हेक्टेयर के बीच इस बांध के नहरों का पानी इंजन पंप लगाकर या अन्य तरीके से किसान दो-तीन किलोमीटर तक पानी ले जाकर सरसों आदि की फसल की सिंचाई करते हैं। इस तरह से 50 हजार किसान करीब 1 लाख हेक्टेयर जमीन की बीसलपुर बांध के पानी से सिंचाई करते है। उसके बाद प्रति हेक्टेयर में करीब 20 क्विंटल सरसों की पैदावार होती है। इस सरसों को किसान 7 हजार रुपए प्रति क्विंटल के हिसाब से बेचता है तो उसे करीब 14 अरब रुपए मिलेंगे। अब यह जमीन किसान नहरों से पानी के कारण खाली छोड़ता है तो करीब 14 अरब का नुकसान होगा।

313 आरएल मीटर तक पेयजल के लिए रिजर्व
बीसलपुर बांध परियोजना के एक्स ई एन मनीष कुमार बंसल ने बताया कि बीसलपुर बांध में पानी की भराव क्षमता 315.50 आरएल मीटर है। इसमें 313 आरएल मीटर तक पानी भरता है तो वह पेयजल के लिए रिजर्व है। उसके बाद आने वाला पानी सिंचाई के लिए है। साले बांध 393 मीटर तक नहीं पहुंचा है, आज की तारीख में बांध का जलस्तर सुबह 8 बजे तक 312.24 आरएल मीटर है।

खबरें और भी हैं...