पदयात्रा पर रोक:डिग्गी पदयात्रा पर रोक, लक्खी मेला भी नहीं भरेगा

टोंक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

प्रसिद्ध धार्मिक नगरी डिग्गीपुरी में हर वर्ष भरने वाले मेले में पदयात्राओं पर रोक रहेगी। राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशों की पालना के तहत इस बार पदयात्राएं डिग्गी नहीं आएगी। इसको लेकर रविवार को मालपुरा में प्रशासन व डिग्गी ट्रस्ट पदाधिकारियों की बैठक होगी। जिसमें मंदिर में आयोजनों को लेकर अन्य कई निर्णय लिए जाएंगे। वहीं शनिवार को मालपुरा तहसीलदार ओमप्रकाश जैन व डिग्गी मंदिर ट्रस्ट के मंत्री जयप्रकाश शर्मा, गिर्राज शर्मा, सत्यनारायण शर्मा के बीच मंदिर परिसर में बातचीत हुई। इसमें राज्य सरकार के दिशा निर्देशों की पालना के तहत पदयात्राओं पर पूर्णतया रोक रहने की जानकारी दी गई।

गौरतलब है कि प्रत्येक वर्ष सावन माह की षष्टी से एकादशी तक लक्खी मेला का आयोजन किया जाता है। मेले में टोंक, जयपुर सहित राज्य के विभिन्न क्षेत्रों से बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं के पहुंचते हैं। जयपुर व श्योपुर (मप्र) राज्य के विभिन्न क्षेत्रों से बड़ी संख्या में पदयात्राएं भी आती हैं। जिनमें लाखों श्रद्धालु डिग्गी पहुंचकर श्रीजी के दर्शन करते हैं। गत वर्ष कोरोना के बाद से बड़े स्तर पर धार्मिक आयोजनों पर रोक लगी हुई है। इस वर्ष भी राज्य सरकार ने धार्मिक स्थलों पर मेले व बड़े आयोजनों पर रोक लगाई हुई है। हालांकि कुछ छूट के साथ सिर्फ मंदिरों में दर्शनों की व्यवस्था की हुई है। ऐसे में इस वर्ष मेला 14 अगस्त से शुरू होने वाला डिग्गी का वार्षिक लक्खी मेला का आयोजन नहीं होना तय है।

खबरें और भी हैं...