प्लस परियोजना:ई-मित्र प्लस परियोजना के माध्यम से मिलेंगे ई-गवर्नेंस सुविधाओं के लाभ

टोंकएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ई-गवर्नेंस सुविधा को आमजन के लिए आसान बनाने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग ने ई-मित्र प्लस परियोजना के तहत टोंक जिले की सभी ग्राम पंचायतों, पंचायत समितियों, जिला स्तरीय भारत निर्माण राजीव गांधी सेवा केन्द्र, तहसील, सब-तहसील, सांख्यिकी विभाग सहित लगभग सभी सरकारी कार्यालयों पर 356 ई-मित्र प्लस मशीनें स्थापित हैं। सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग, जिला मुख्यालय,टोंक ने बताया कि इन मशीनों का उपयोग कर आमजन स्वयं ही 100 से अधिक ई-गवर्नेंस संबंधित सेवाओं यथा राज्य सरकार के अंतर्गत विभिन्न आवेदनों का स्टेटस जैसे गिरदावरी, जमाबंदी की नकल, जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र, जाति, मूल निवास प्रमाण पत्र, जन आधार, आधार कार्ड आदि की प्रति प्राप्त करने, बिजली-पानी बिल जमा करवाना, मोबाइल रिचार्ज करने, बस-स्टैंड पर लगी ई-मित्र प्लस मशीन से टिकट आदि की सुविधाएं प्राप्त कर सकता है।

इन पर सूचना पोर्टल का लिंक भी उपलब्ध है, जिसके माध्यम से कोई भी व्यक्ति राजस्थान सरकार की विभिन्न योजनाओं के संबंध में जानकारी,आवेदनों की स्थिति आदि प्राप्त कर सकता है। राज्य सरकार द्वारा राज्य के सामाजिक सुरक्षा पेंशन लाभार्थी को दी जा रही सामाजिक सुरक्षा पेंशन के लिए प्रतिवर्ष लाभार्थियों को जीवन प्रमाण का वार्षिक सत्यापन करवाया जाना अनिवार्य होता है। जीवन प्रमाण के वार्षिक सत्यापन के लिए लाभार्थी पीपीओ नंबर एवं मोबाइल नंबर के द्वारा स्वयं ही ई-मित्र प्लस मशीनों के माध्यम से सत्यापन कर सकता है। इसके लिए सत्यापन निशुल्क है, केवल प्रमाण-पत्र प्रिन्ट का ही शुल्क निर्धारित है।

खबरें और भी हैं...