पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बर्ड फ्लू से जंग:बर्ड फ्लू : कलेक्टर ने पशुपालन, वन विभाग व नगर निकायों के अधिकारियों को किया सचेत

टोंक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • जिला स्तरीय और ब्लाक स्तरीय कंट्रोल रूम स्थापित, अधिकारी नियुक्त किए

कौओं की असामान्य मौत को लेकर कलेक्टर ने भी संबंधित अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए। साथ ही रोकथाम के लिए सावधानी बरते पर जोर दिया। प्रदेश के कुछ जिलों से मृत कौओं के भेजे गए नमूनों की प्राथमिक रिपोर्ट में एवियन इन्फ्लुएंजा वायरस की पुष्टि हुई है। टोंक में कौओं की असामान्य मृत्यु एवं इस रोग के जिनेटिक महत्व को देखते हुए जिले में रोग की रोकथाम के लिए कलेक्टर गौरव अग्रवाल की अध्यक्षता में गुरुवार को कलेक्टर कक्ष में बैठक का आयोजन किया गया। कलेक्टर ने एवियन इन्फ्लुएंजा (बर्ड फ्लू) की रोकथाम के लिए पशुपालन, वन विभाग एवं नगर निकायों को समन्वय बनाकर कार्य करने के निर्देश दिए। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.अशोक कुमार यादव को आरआरटी के लिए आवश्यक पीपीई किट, ग्लाॅब्ज, मास्क एवं डिसईन्फेक्टेंट पशुपालन विभाग को उपलब्ध कराने के लिए कहा। जिला वन अधिकारी को भारत सरकार से समय-समय पर प्राप्त वन्य पक्षियों के संदर्भ में जारी एवियन इन्फ्लुएंजा एक्शन प्लान के अनुसार रोग के रोकथाम, बचाव एवं सर्वेक्षण के सम्बन्ध में आवश्यक दिशा निर्देश दिए। आयुक्त, नगर परिषद को पक्षियों के मृत्यु स्थल पर सोडियम हाइपो क्लोराइड का स्प्रे करने के निर्देश प्रदान किए गए। पशुपालन विभाग के मक्खन लाल दिनोदिया ने बताया कि अब तक केवल कौओं में ही असामान्य मृत्यु की रिपोर्ट प्राप्त हुई है। पोलर्टी फार्मस में अभी तक पक्षियों में असामान्य मृत्यु की रिपोर्ट नहीं हैं। जिले में एवियन इन्फ्लुएंजा रोग बचाव एवं नियंत्रण के लिए संभावित क्षेत्र में इस रोग के सर्विलेंस, रिपोर्ट संकलन एवं सम्प्रेषण के लिए जिला स्तरीय एवं ब्लाक स्तरीय कंट्रोल रूम स्थापित कर अधिकारी नियुक्त कर दिए गए हैं। सभी ब्लाक में आरआरटी का गठन कर दिया गया है। विभाग किसी भी परिस्थिति के लिए तैयार है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें