जन अनुशासन पखवाड़े:जन अनुशासन पखवाड़े की उजली तस्वीर

टोंक6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टोंक। जन अनुशासन पखवाड़े के तहत घण्टाघर सर्किल पर पसरा सन्नाटा। - Dainik Bhaskar
टोंक। जन अनुशासन पखवाड़े के तहत घण्टाघर सर्किल पर पसरा सन्नाटा।
  • अप्रैल के शुरुआती 15 दिन मेें 13 जनों की मौत, 37 घायल, 16 अप्रैल शाम से वीकेंड कर्फ्यू व 19 अप्रैल से आवाजाही थमी तो थमे सड़क हादसे, महज एक जने की गई जान

राकेश पालीवाल | कोरोना संक्रमण रोकने को लेकर लगाए गए कर्फ्यू का असर संक्रमित घटाने में भले न हो पाया हो लेकिन अपराध अौर सड़क हादसों में जरूर कमी आ गई है। हर साल सड़क हादसों में अप्रैल माह में 15 से 20 लोगों की मौतें होती है।इस बार जनअनुशासन पखवाड़े व वीकेंड कर्फ्यू के चलते वाहनों की आवाजाही में कमी आने से सड़क हादसे पूरी तक मानो थम से गए। इतना ही नहीं निजी वाहनों के लिए जिले की सीमा सील किए जाने के बाद तो परिवहन काफी हद तक थमने से सड़क हादसे घट गए। बीते साल भी लॉकडाउन के चलते सड़क हादसे कम हुए थे।

लेकिन चल रहे अप्रैल माह में सड़क हादसो के बदले में कोरोना संक्रमण ने जरूर 20 से अधिक जान लील ली। हालांकि चिकित्सा विभाग की ओर से अप्रैल के बीते 29 दिनों में महज 9 मौतों की ही पुष्टि की जा रही है। उल्लेखनीय है कि अप्रैल में बढ़ते कोरोना के संक्रमण के बढ़ते आंकड़ों के बाद सरकार ने 16 अप्रैल शाम से वीकेंड कर्फ्यू शुरू किया, इसके बाद 19 अप्रैल सुबह से 3 मई तक जनअनुशासन पखवाड़ा के तहत अनुमति वाली दुकानों को छोडकर सब कुछ बंद किया गया। संक्रमण को रोका जा सके। जनअनुशासन पखवाड़ को सबसे ज्यादा फायदा पुलिस को मिला है। क्योंकि सड़क हादसे न सिर्फ बीते साल की तरह घट गए हैं बल्कि, हर साल होने वाली सड़क हादसों में गिरावट आई है।

जिले में अप्रैल माह में सड़क हादसे और मौतें

अप्रैल के शुरुआती दिनों में 15 दिनों में जिले में सड़क हादसों में 13 जनों की मौत हुई जबकि 36 जने घायल हुए। इनमें दूनी में वाहन की टक्कर से बाइक सवार किसान की मौत, सवाईमाधोपुर चौराहें पर तारण निवासी युवक की मौत, बनेठा में बाइक सवार पत्नी की मौत, पति हुआ घायल, दूनी में गेहूं काटने जा रहे बाइक सवार की मौत, घास के पास ईरिक्शा सवार मासूम की मौत, एपीआरआई के सामने साइन बोर्ड से टकराने से बाइक सवार युवक की मौत, झिलाय में बजरी भरे ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार की मौत, जबकि पत्नी घायल, पीपलू में बाइक सवार पत्नी व पति की मौत समेत अन्य हादसे शामिल है। जबकि वीकेंड कर्फ्यू लगने व जनअनुशासन पखवाडा शुरू होने के बाद बीते 13 दिन में महज एक जने की सड़क हादसे में मौत हुई है। अप्रैल माह में लोगों की व्यस्तता ज्यादा रहती है और शादी-विवाह में मशगूल हो जाते है।

लोग घरों में रहे इसलिए अपराध भी हो रहे कम

लॉकडाउन के कारण लोग घरों में हैं, तो चोरी-सड़क हादसे अपने आप ही कम हो जाते है। इसके साथ ही हाइवे समेत अन्य मार्गों पर निजी वाहनों की आवाजाही भी थमी है। पुलिस भी 24 घंटे ड्यूटी में सड़क पर रहती है।-सुभाष चन्द्र, एएसपी

खबरें और भी हैं...