अन्नकूट का भोग लगाया:गिर्राजधरण मंदिर में झांकी सजाई, ठाकुरजी को अन्नकूट का भोग लगाया

टोंकएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

शहर समेत गांवों में ठाकुरजी के अन्नकूट का भाेग लगाया गया। शहर स्थित श्री गिर्राजधर मंदिर में गोवर्धन परिक्रमा समिति की ओर से सुबह साढे 9 बजे पुजारी बृजबिहारी ने भगवान का अभिषेक किया। समिति के मंत्री श्यामसुंदर विजय ने बताया कि इस मौके पर गाय-बछड़ा पूजन किया गया। शाम को भगवान के भोग लगाकर अन्नकूट की प्रसादी वितरित की गई। शाम को गाेवर्धन की पूजा व महाआरती का आयोजन हुआ। इस मौके पर अध्यक्ष भागचंद जैन, कोषाध्यक्ष बंशीलाल शर्मा समेत कई श्रद्धालु मौजूद रहे। शहर के श्रीराम कृष्ण मंदिर में शुक्रवार शाम को अन्नकूट महोत्सव का आयोजन हुआ। इस दौरान झांकी सजाई गई। इस मौके पर भजन-कीर्तन का आयोजन हुआ। श्रद्धालुओं को प्रसादी का वितरण किया गया।मंदिरों में अन्नकूट का लगाया भोगउनियारा| कस्बे सहित ग्रामीण क्षेत्र के मंदिरों में शुक्रवार को भगवान के अन्नकूट का भोग लगाया एवं प्रसादी वितरित की।

शुक्रवार को कस्बे के श्री चारभुजा नाथ मंदिर, श्री सत्यनारायण मंदिर, वैकेटशवर मंदिर, न्यू मार्केट में स्थित रघुनाथजी महाराज मंदिर में अन्नकूट के प्रसादी बनाकर भोग लगाया गया एवं श्री रघुनाथ जी मंदिर में महिलाओं द्वारा अन्नकूट का भोग लगाकर प्रसादी वितरण की गई। वहीं श्री चारभुजा मंदिर में मंदिर समिति द्वारा अन्नकूट का भगवान का भोग लगाकर प्रसाद वितरित किया गया। अन्नकूट का भोग के दौरान मंदिरों में मनमोहक झांकी का दर्शन कर भक्तों का मन प्रफुल्लित हो उठा।अन्नकूट प्रसादी वितरण के मंदिर समिति के पदाधिकारी सहित श्रद्धालु मौजूद थे।आतिशबाजी कीपचेवर| दीपावली हर्षोल्लास से मनाया गया। गोवर्धन पूजन के साथ ही मंदिरों में अन्नकूट का आयोजन किया गया। ग्राम सुरक्षा के प्रतिक देव घांस भैरू की सवारी निकाली गई। घांस भैरू की सवारी के दौरान लोगों ने जमकर आतिशबाजी की। लोगों द्वारा की जा रही आतिशबाजी के दौरान कस्बे के गणेशजी के मंदिर बाहर लगी चौखट को अज्ञात असामाजिक तत्वों द्वारा तोड़े जाने की भी जानकारी सामने आई है। प्रतिबंध के बाद भी कस्बे सहित नगर, पारली आदि गांवों में लोगो ने जमकर आतिशबाजी की। शनिवार को भैया दूज के पर्व के साथ ही पंच दिवसीय महापर्व का समापन हुआ।

अन्नकूट प्रसादी ग्रहण निवाई | शनिवार को भाई दोज के त्यौहार के शुभ अवसर पर बहिनों ने पूजा अर्चना कर कहानी सुनी और अपने भाई को तिलक लगाकर उनकी लम्बी उम्र की कामना की। भाई दूज के त्यौहार के साथ दीपावली के पांच दिवसीय त्यौहार का समापन हो गया। धनतेरस पर भगवान धन्वन्तरि की पूजा अर्चना के साथ ही दीपावली के राष्ट्रीय त्यौहार का शुभारंभ हुआ था। क्षेत्र में दीपवाली का त्यौहार हर्षोल्लास व उमंग के साथ मनाया गया। घर-घर में धन की देवी लक्ष्मी की पूजा अर्चना की गई। इस अवसर पर घर की देहरी से लेकर मकान की छत तक दीपकों से रोशन किया गया। शुक्रवार को शहर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में अन्नकूट महोत्सव धूमधाम से मनाया गया।

अन्नकूट महोत्सव के अवसर पर सभी मंदिरों में भगवान की आकर्षक व मनमोहक झांकी सजाई गई व भगवान के नई फसल के धान्य का भोग लगाया गया। कई श्रद्धालुओं ने प्रसादी ग्रहण की। लोगों ने बुजुर्गो से आशीर्वाद लिया और एक दूसरे से गले मिलकर बधाई दी। बच्चों व युवाओं ने दीपावली के अवसर पर लक्ष्मी पूजन के बाद पटाखे फोडक़र त्यौहार मनाया तो वहीं ग्रामीण क्षेत्र में भगवान गोवर्धन की पूजा अर्चना के बाद शाम को गोवंश की विधि विधान से पूजा की गई व जमकर आतिशबाजी की गई। अन्नकूट महोत्सव पर सुबह शहर के सभी मंदिरों में दर्शनों के लिए श्रद्धालुओं की भीड़ रही।

श्याम मंदिर, श्री गौरीशंकर महादेव मंदिर, राधा गोपीनाथ मंदिर , चारभुजानाथ मंदिर, नया मंदिर, श्री राधादामोदर मंदिर, श्री दादूदयाल आश्रम, श्री टीलेश्वर महादेव मंदिर, मुरली मनोहर मंदिर, राधादामोदर मंदिर, कंकाली माता मंदिर, नर्बदेश्वर मंदिर, इच्छेश्वर महादेव मंदिर, खेजडाजी के आश्रम, कुंजबिहारी आश्रम सहित शहर व ग्रामीण क्षेत्र के सभी मंदिरों में भगवान की झांकी सजाकर अन्नकूट का भोग लगाया गया व प्रसादी जिमाई गई।

ग्रामीण क्षेत्र में गोवर्धन पूजा के बाद घास भैरव की शोभायात्रा निकाली गई।सत्संग समागम में श्रवण किया प्रवचन टोडारायसिंह| शहर की माली धर्मशाला में शुक्रवार को सन्त रामपाल जी महाराज का चल चित्र के माध्यम से दिवाली के दूसरे दिन गोवर्धन महोत्सव पर सत्संग समागम का आयोजन किया गया। जिला सेवादार लेखराम दास, शंभू दास, सुरेश दास अजमेरा, दुर्गादास ने बताया कि सन्त रामपाल जी महाराज जी कहा है कि सत्संग में मनुष्य जीवन केवल परमात्मा की सही भक्ति करने के लिए मिला है। सत्संग में आस पास गांवों के सैकड़ों भक्तजन मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...