सावधानी से टलेंगे हादसे:बोर्ड लगाने के बाद भी जान जोखिम में डालकर रपटे से गुजर रहे ग्रामीण

टोंक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बनेठा| टोंक मार्ग पर नाला उफान पर आने के बाद भी रस्सी बांधकर नाला पार कराते युवक। - Dainik Bhaskar
बनेठा| टोंक मार्ग पर नाला उफान पर आने के बाद भी रस्सी बांधकर नाला पार कराते युवक।
  • एक सप्ताह पूर्व रपटे के बहाव में पिता-पुत्र की हो गई थी मौते

सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा उपखंड क्षेत्र की सड़कों पर बने रपटे पर चेतावनी बोर्ड लगा रखे हैं। उसके बाद भी ग्रामीण चेतावनी बोर्डों को नजर अंदाज करके जान-जोखिम में डालकर रपटों पर से बह रहे पानी में होकर गुजर रहे हैं। उपखंड के गांव सिरस में रपटे पर पानी का बहाव तेज होने के बावजूद भी ग्रामीण रपटे पर से ही आते जाते हैं। जिसको लेकर सार्वजनिक निर्माण विभाग के अधिकारियों ने कच्ची डोल लगाकर रास्ता को बंद कर दिया। लेकिन ग्रामीणों ने कच्ची डोल को क्रॉस कर आवागमन कर रहे हैं। बता दें कि 2 अगस्त की रात को चेतावनी बोर्ड लगा होने के बावजूद एंबुलेंस पानी से निकलने पर रपटे पर पानी के तेज बहाव में एंबुलेंस में पिता पुत्र की पानी में बह जाने से मौत हो गई थी।

सार्वजनिक विभाग के सहायक अभियंता रविन्द्रकुमार का कहना है कि 15 जुलाई से पूर्व वर्षा ऋतु शुरू होते ही सभी नालों व रपटों पर जहां पर चेतावनी बोर्ड लगे हुए नहीं है या खराब हो गए उनको रिपेयर करवा कर लगा दिया जाता है। गांव सिरस में रपट के आगे बोर्ड लगा हुआ है , ग्रामीण चेतावनी बोर्ड लगा होने के बावजूद भी रपटे पर से आवागमन कर रहे हैं। जिसको कच्ची डोल लगाकर बंद करवाया गया है।वनस्थली | सड़क के ऊपर से बह रहा है बांडी-खाराकोशी का पानी सड़क, करीब डेढ़ दर्जन गांवों से संपर्क कटा। इससे लोगों की परेशानी बढ़ी।

एसडीएम के निर्देश पर राजस्व कर्मचारियों ने की पानी की निकासी उनियार | क्षेत्र के बोसरिया ग्राम में एक खेत में से निकलने वाला पानी की निकासी को बंद करने पर कई ग्रामीणों के मकानों में दरारें आने की आशंका को देखते हुए एसडीएम रजनी मीणा से रूबरू होकर समस्या से पीड़ितों ने अवगत कराया था। जिसके बाद एसडीएम ने राजस्व कर्मचारियों को समस्या का निराकरण करने के निर्देश दिए। जिसके बाद राजस्व कर्मचारियों ने पानी की निकासी करवाई। मानसून सक्रिय होने पर तेज बारिश के कारण तालाब, नाड़ी मैं पानी आ गया था एवं कई जगह पानी से खेत भी जलमग्न हो गए। वहीं बोसरिया में करीब आठ दस बीघा के खेत में पानी भर गया। यह पानी के निकास के रास्ते को असामाजिक तत्वों ने बंद कर दिया ‌ खेत में पानी की निकासी न होने के कारण कई पक्के मकान गिरने की आशंका को देखते हुए पीड़ित लोगों ने एसडीएम रजनी मीणा से समस्या से अवगत कराया।

जिसके बाद में गिरदावर रामबाबू, पटवारी दीपा मीना, रामसागर मीना, ग्रामीण दयाराम गुर्जर, छितर लाल गुर्जर, दिनेश महावर, कैलाश जाट, सुरजमल पांचाल, सीताराम गुर्जर, गिर्राज जाट, देशराज गुर्जर की मौजूदगी में पानी के निकास को रोकने वाले व्यक्ति को समझाइश कर पानी की निकासी को चालू किया गया।शिव शक्ति कॉलोनी में सड़क-नाली के अभाव में भरा पानी अलीगढ़| उखलाना रोड स्थित शिव शक्ति कॉलोनी में 3 से 4 फीट तक बरसाती पानी भरा हुआ है। इससे कॉलोनीवासियों को आवाजाही में काफी दिक्कतें हो रही हैं। यह कॉलोनी दो पंचायतों के बीच उलझी हुई है। क्योंकि यह कॉलोनी का राजस्व क्षेत्र जहां उखलाना ग्राम पंचायत में आता है, वहीं अधिकतर निवासी अलीगढ़ ग्राम पंचायत के मतदाता हैं। जिसके कारण आमजन को खासी समस्या का सामना करना पड़ता है।

खबरें और भी हैं...