आग:छप्पर में लगी आग, गेहूं-मूंग की बोरियां राख

टोंकएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कठमाणा के पास खेतों में बने छप्पर में आग लगने से दो बछड़े व घरेलू सामान गेहूं, मूंग की छह बोरी आदि जल गए। इसका पता लगने के बाद थोड़ी दूरी पर सो रहे पीड़ित के भाई व बेटे ने पानी के टैंकर मंगवाकर करीब एक घंटे में आग पर काबू पाया। तुलसीराम गुर्जर ( 45) करीब एक माह से करीब दो किमी दूर खेत पर बनाए कच्चे में रह रहा है। पत्नी व नाबालिग बेटी के साथ गांव में स्थित घर में लक्ष्मी पूजन करने गए थे। पूजा करने के बाद वे वहीं सो गए।

खेत में स्थित घर के आगे बने छप्पर के नीचे तुलसीराम का बड़ा भाई पांचू लाल (50) व बेटा भगवान (17) सो रहा था। अचानक उनको दूसरे छप्पर में आग लगने का अहसास हुआ। अचानक आग की लपटें देख मौके पर पहुंचे और वहां बंधी चार भैंसों की रस्सी खोलकर दूर ले गए। मगर भैंसों के दो बच्चे आग से झुलस गए। गांव में फोन कर पानी का टैंकर मंगवाया। टैंकर के पानी से आग बुझाई गई। आग लगने से छप्पर में एक ओर भरा करीब 45 किमी भूसा, 5 बोरी गेहूं की व 1 बोरी मूंग सहित दो भैंस के बछड़े व घरेलू सामान जल गए।

खबरें और भी हैं...