पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कलेक्टर को ज्ञापन:खाद्य निरीक्षण दल के कर्मचारी ने लगाया जातिसूचक शब्दों से प्रताड़ित करने का आरोप

टोंकएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कलेक्टर को ज्ञापन देने आए राष्ट्रीय वाल्मीकि क्रांतिकारी मौर्चा पदाधिकारी, समाज प्रतिनिधि व अन्य। - Dainik Bhaskar
कलेक्टर को ज्ञापन देने आए राष्ट्रीय वाल्मीकि क्रांतिकारी मौर्चा पदाधिकारी, समाज प्रतिनिधि व अन्य।
  • चंदलाई में नमूने लेने गए दल से गत दिनों वहीं के लोगों ने की थी मारपीट

राष्ट्रीय वाल्मिकी क्रांतिकारी मोर्चा पदाधिकारियों व वाल्मिकी समाज के लोगों ने खाद्य निरीक्षण दल के कर्मचारी को जातिसूचक शब्दों से अपमानित करने कलेक्टर को ज्ञापन देकर कार्रवाही की मांग की। समाज के प्रतिनिधि पार्षद हकीकतराय सोदा और मोर्चा जिलाध्यक्ष आदित्य मीणा ने सरकारी विभागों में पदस्थापित वाल्मीकि सहित दलित समाज के लोगो पर हो रहे।

मानसिक हमले की निंदा करते चेतवानी दी है अगर कार्यवाही नही हुई तो वह सफाई कार्य बंद करने से भी पीछे नही हटेंगे। दल के कर्मचारी कमलेश राजोरिया ने बताया कि 9 मई को खाद्य निरीक्षक जांच दल की ओर से चंदलाई में घी के नमूने के लेने दौरान विरोध करते हुए हंगामा के बाद जांचदल से अभद्रता कर उन्हे जातिसूचक शब्दों से अपनानिक किया।

इसके विरोध में उसी दिन दल ने सदर थाने में हंगामा करने वालों पर मारपीट कर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया था। वही 10 जून काे आरोपी पक्ष की महिला ने खाद्य सुरक्षा अधिकारी डाॅ. मदनलाल गुर्जर सहित जांच दल कर्मचारियों पर लज्जा भंग का आरोप लगाते हुए थाने में मामला दर्ज करवा दिया।

इसी मामलें में शुक्रवार को चिकित्सा दल के वाल्मीकि समाज से जुडे कर्मचारी कमलेश राजोरिया ने मारपीट और अभद्रता करने वालो पर जातिसूचक शब्दो से अपमानित करने का आरोप लगाकर सदर थाने में नामजद आरोपियों को जल्द गिरफ्तार किए जाने की मांग कलेक्टर से ज्ञापन में की हैं। साथ ही चेतावनी दी कि अगर कार्रवाही नही हुई तो वाल्मिकी समाज सफाई कार्य बंद अपना रोष जताएगा। इस मौके पर मनोज कुमार, हंसराज, सुनिला, नरेश, देवा, पप्पूलाल सहित वाल्मिकी समाज के कई लोग माैजूद रहे।

चिकित्सा विभाग कर चुका गिरफ्तारी की मांग

जांच दल से मारपीट व बदसलूकी मामलें सीएमएचओ अशोक कुमार ने विभाग कार्यालय अधिकारियों और कर्मचारियों के साथ कलेक्टर और एसपी को ज्ञापन देकर आरोपी पक्ष की ओर से थाने में दल के खाद्य सुरक्षा अधिकारी सहित अन्य कर्मचारियों पर दर्ज करवाए मामलें को झूठा बताकर निष्पक्ष जांच व आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की थी।

खबरें और भी हैं...