• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Tonk
  • For The Approval Of The Roads, The Meeting Was To Be Held Under The Chairmanship Of The District Chief, The Names Of BJP Public Representatives Were Not In The Plaques For The Inauguration And Foundation Stone.

जिला प्रमुख ने बैठक की स्थगित:सड़कों के अनुमोदन के लिए होनी थी बैठक, लोकार्पण व शिलान्यास पट्टिकाओं में भाजपा जनप्रतिनिधियों के नाम तक नहीं

टोंक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला परिषद सदस्यों से बातचीत करते हुए। - Dainik Bhaskar
जिला परिषद सदस्यों से बातचीत करते हुए।

पीडब्ल्यूडी की ओर से गत दिनों बनाई गई सड़कों का अनुमोदन करने को लेकर बुलाई गई बैठक को जिला प्रमुख सरोज बंसल ने स्थगित कर दिया है। इसके पीछे तर्क दिया कि सरकार की ओर से बनाई जाने वाली सड़कों की शिलान्यास पट्टिका लोकार्पण पट्टिका पर सांसद, जिला प्रमुख समेत स्थानीय भाजपा के जनप्रतिनिधियों के नाम नहीं है। इस भेदभाव के चलते यह बैठक स्थगित की गई है।

इन दिनों जिले में कई जगह बनी सड़कों का लोकार्पण व शिलान्यास किया जा रहा है। इसमें मुख्य भूमिका संबंधित एमएलए की बनी हुई है। सामने आया है कि इन पट्टिका में सांसद सुखबीर सिंह जौनापुरियां समेत संबंधित क्षेत्र के भाजपा के जिला परिषद सदस्य व सीआर का नाम इन शिलान्यास पट्टिकाओं से गायब है। यानी कि कांग्रेस के एमएलए सरकारी तंत्र पर दबाव बनाकर इस तरह का भेदभाव किया जा रहा है। सरकार की गाइडलाइन के अनुसार ऐसे कार्यक्रमों में संबंधित क्षेत्र के छोटे जन प्रतिनिधियों, जिला परिषद सदस्य, पंचायत समिति सदस्य को भी समारोह में बुलाना चाहिए और उनका नाम भी नाम इनमें दिया जाना चाहिए, लेकिन नहीं दिया। इससे नाराज जिला प्रमुख ने बैठक के लिए जिलेभर से आए सभी जनप्रतिनिधियों के बीच स्थगित करने का ऐलान कर दिया। इसी के साथ जिलेभर से आए कई प्रतिनिधियों ने कांग्रेस के निवाई, उनियारा विधायक पर भेदभाव का आरोप लगाया है।

दबाव में अधिकारी नहीं लिखवा रहे है नाम

जिला प्रमुख सरोज बंसल ने का कहना है कि जिले में बनी सडकें व बनने वाली सड़कों की लोकार्पण व शिलान्यास पट्टिकाओं में सांसद, जिला प्रमुख समेत स्थानीय जन प्रतिनियों के नाम नहीं होने से यह बैठक स्थगित की है। इस पर उचित कार्रवाई होने पर बैठक बुलाई जाएगी। निवाई प्रधान रामवतार लागंडी ने बताया कि डीआर, सीआर, सरपंच आदि के नाम इन पट्टिकाओं पर नहीं है। सरकार तो आती और जाती रही है, ऐसा भेदभाव नहीं करना चाहिए। अफसर सरकार के दबाव में आकर ये भेदभाव कर रहे है।

जनप्रतिनिधियों का अपमान कर रही है

जिला परिषद सदस्य लवेश मीणा ने बताया कि सरकार जनप्रतिनिधियों का अपमान कर रही है। निवाई में लोकार्पण पट्टिका में वहां के प्रधान का नाम नहीं है। बनेठा से जिला प्रमुख जिला परिषद सदस्य है। वहां की पट्टिका में उनका नाम नहीं है। सरकार और उनके एमएलए की सोच रहे कि जहां भी इस तरह की कोई पट्टिका लगाए जाए उस पर संबंधित सांसद, जिला प्रमुख से लेकर वार्ड पंच तक का नाम होना चाहिए। तभी सही मायने में लोकतंत्र है।

खबरें और भी हैं...