पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मृत्यु भोज:पूर्व नगर परिषद सभापति माहुर भी नहीं करेंगे मां का मृत्यु भोज

टोंक10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

मृत्यु भोज को बंद करने को लेकर दैनिक भास्कर की ओर से चलाई जा रही मुहिम रंग ला रही है। सोमवार को जिला सर्व वर्गीय जायसवाल समाज की बैठक सर्व वर्गीय जायसवाल सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ताराचंद एवम के सभा के जिलाध्यक्ष कमल माहुर आवां वाले की अध्यक्षता में हुई।  इसमें सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि समाज में फिजुल ख़र्चे को रोकने के लिए मृत्यु भोज को बंद करना है।इस दौरान बैठक में मौजूद सभा के पदाधिकारी आदि ने मर्तुभोज को बंद करने की शपथ ली इसके बाद सभी पदाधिकारी सभा के जिलाध्यक्ष कमल माहुर के साथ पूर्व नगर परिषद सभापति गणेश माहुर के आवास पर पहुंचे और गत दिनों हुए उनकी मां के स्वर्गवास पर  शौक जताया। इस दौरान सभी पदाधिकारियों ने गणेश माहुर को दो दिन बाद होने वाला उनकी मां  का मृत्यु भोज नहीं करने का निवेदन किया।  इस पर गणेश  माहुर सहज ही मान गए और उन्हें समाज की ओर से लिए गए इस निर्णय काी काफी सराहना की। फिजूल खर्च बचेगा तो समाज आगे बढ़ेगा, शिक्षा में करें खर्च। पूर्व सभापति गणेश माहुर ने भास्कर की पहल की भी काफी सराहना की। उन्होंने बताया कि आज जिस तरह से दैनिक भास्कर मृत्यु भोज को बंद करने के लिए लोगों को जागरूक कर रहा है।वह सराहनीय कदम है। सभी समाज में इसे बंद करने से फिजूल खर्च नहीं होगा। ऐसा होता है तो खास तौर पर गरीब तबके के लिए काफी मददगार होगा। क्योंकि कहीं लोग तो इसे सामाजिक दायित्व समझते हुए मजबूरी करते हैं। इससे वे कर्ज तले दब जाते हैं और वे बच्चों की सही परवरिश नहीं कर पाते है। उनके बच्चों को अच्छी शिक्षा मिल पाती है। ऐसे में मृत्यु भोज बंद करना समाज के लिए काफी लाभदायक साबित होगा। उन्होंने समाज से आह्वान किया कि मृत्यु भोज को बंद करने से बचने वाले  रूपयों को को बच्चों की शिक्षा में खर्च करें ,ताकि को वे शिक्षित और आत्मनिर्भर बन सके।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें