यात्रियों की आवाजाही होगी आसान:कोटा-टोंक आगार को मिली 5 राेडवेज बसें, अब 75 बसें हो गई

टोंक2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टोंक | रोडवेज आगार में कोटा से आई रोडवेज बस। - Dainik Bhaskar
टोंक | रोडवेज आगार में कोटा से आई रोडवेज बस।
  • आगार को प्रतिदिन 25 हजार किलोमीटर बसों के संचालन का लक्ष्य

कोटा आगार में शामिल 5 रोडवेज बसें टोंक आगार को उपलब्ध कराई गई है। इनमें दो बसें टोंक आगार में पहुंच भी चुकी है। इसके साथ अब बेडे में उपलब्ध रोडवेज का आंकड़ा 73 का हो गया है। जबकि आगार में 15 बसें अनुबंध के तौर पर संचालित की जा रही है। बसें मिलने से यात्रियों की आवाजाही ओर आसान हो जाएगी। उल्लेखनीय है कि पिछले कई दिनों से टोंक आगार की बसों मे इजाफा नहीं हुआ। हालांकि कई बसें जरूरी नाकारा घोषित कर दी गई। इसके विपरीत जिले की आबादी जरूर बढ़ती रही। आबादी के अनुपात में बसों का संचालन नहीं होने से आवाजाही की बेहतर सुविधा की आस अधूरी रही। जबकि आगार को प्रतिदिन करीब 25 हजार किलोमीटर बसों के संचालन का लक्ष्य है। टोंक आगार की ओर से जिले सहित दिल्ली, भोपाल, श्योपुर, फरीदाबाद आदि लम्बे मार्गों पर भी बसें संचालित की जाती है।

आबादी बढ़ने के बावजूद घट रही थी बसें : वर्ष 2013 में जब जिले की आबादी 12 लाख ही थी। उस दौरान बेड़े में बसों की संख्या 100 थी। अब जिले की आबादी 16 लाख से अधिक होने के बावजूद बेडे में महज 68 ही रोडवेज की बसें है। अब 5 बसें ओर मिलने से राह आसान होगी।दिनाेदिन बढ़ रही बसों की आवश्यकता : गांवों में यात्रियों की आवाजाही के लिए रोडवेज संचालन की मांग जनप्रतिनिधि व ग्रामीण करते आ रहे हैं। जबकि बेड़े में बसों की संख्या में कमी आती जा रही है। वर्तमान में भी जिले के कई गांव रोडवेज सेवा से जुड़े नहीं होने से लोगों को मुंहमांगा किराया चुकाना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...