कोरोना के कहर से बाजार सूने:अब ज्यादा सताने लगा है कोरोना का डर, बाजार में आने में कतरा रहे लोग, खाने का सामान भी कम ही खरीद रहे

टोंक6 महीने पहले
सुबह 11 बजे बाद पेट्रोल भरवाने के लिए चक्कर लगाते लोग।

कोरोना की बढती रफ्तार के चलते लोग अब डरने लगे हैं। बेवजह लोग घरों से कम निकल रहे हैं। यही नहीं बाजार में खाने-पीने की सामग्री भी लोग कम ही ले रहे हैं। जो ले भी रहे हैं उसे सावधनीपूर्वक गर्मपानी से धोकर काम में ले रहे हैं।

उधर, कोरोना की गाइडलाइन की पालना का जायजा लेने के लिए गुरुवार सुबह जिला कलेक्टर चिन्मयी गोपाल ने अधिकारियों के साथ दौरा किया। ज्ञात रहे कि जिले में इन दिनों कोरोना की रफ्तार बढी हुई है। रोजाना औसतन डेढ सौ मरीज सामने आ रहे हैं। वहीं तीन-चार दिन से सात-आठ मौतें रोजाना हो रही हैं। ऐसे में लोगों में कोरोना को लेकर पहले के मुकाबले अभी ज्यादा डर रहे हैं। लाेगों का कहना है कि पहले कोरोना इतने घातक रूप में नहीं आया था। होम आईसोलेट से अधिकांश मरीज ठीक हो रहे थे,लेकिन अभी इस साल कोरोना को लेकर हालात काफी गंभीर हैं। अधिकांश कोरोना मरीजों के ऑक्सीजन सिलेंडर लगे हुए हैं।

दोपहर 117 मरीज थे भर्ती, 96 के लगे है सिलेंडर

कोरोना वार्ड प्रभारी डॉ.प्रतीक सालोदिया ने बताया कि दोपहर 1 बजे तक कोरोना वार्ड में 117 मरीज भर्ती थे। इनमें से 96 मरीज कृत्रिम ऑक्सीजन पर हैं। इस बार कोरोना मरीज का ऑक्सीजन लेवल काफी कम आ रहा है।

पेट्रोल पंप बंद होने के बाद भी पेट्रेाल भरवाने के लिए पहुंच रहे वाहन चालक

कोरोना की चेन तोड़ने के लिए पेट्रोल पंपों का भी सुबह 11 बजे तक ही खोल रखा है। इसके चलते कई लोग पेट्रोल भरवाने के लिए दोपहर तक पेट्रोल पंपों के चक्कर लगाते दिखते हैं। हालांकि पेट्रोल पंपों ने वाहनों को रोकने के लिए 11 बजे बाद से अवरोधक लगाते हैं।

सुबह 11 बजे बाद दुकानें खुली रखने की छूट खत्म होते ही सुभाष बाजार में पसरा सन्नाटा।